इस आदिवासी समाज को मिली ट्रंप के स्वागत की जिम्मेदारी, करेंगे पारंपरिक नृत्य

अहमदाबाद एयरपोर्ट पर ट्रंप के पारंपरिक स्वागत की जिम्मेदारी गांधीनगर के दांता तालुका के सनाली-रूपपुरा गांव के आदिवासी समाज के तराल जनजाति के लोगों को सौंपी गई है.

इस आदिवासी समाज को मिली ट्रंप के स्वागत की जिम्मेदारी, करेंगे पारंपरिक नृत्य
फाइल फोटो.

अल्केश राव, अहमदाबाद: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) 24 फरवरी को दोपहर 11:55 बजे गुजरात के अहमदाबाद एयरपोर्ट पहुंचेंगे. उनका भारत दौरा दो दिन का होगा. वे अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में 'नमस्ते ट्रम्प' कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. अहमदाबाद एयरपोर्ट पर उनके स्वागत की तैयारियां जोरों-शोरों से चल रही हैं. ट्रंप के पहले भारत दौरे को लेकर वह भी उतने ही उत्साहित हैं जितना कि भारत. अहमदाबाद एयरपोर्ट पर उनके भव्य स्वागत की तैयारियां चल रही हैं. 

अहमदाबाद एयरपोर्ट पर ट्रंप के पारंपरिक स्वागत की जिम्मेदारी गांधीनगर के दांता तालुका के सनाली-रूपपुरा गांव के आदिवासी समाज के तराल जनजाति के लोगों को सौंपी गई है. सांस्कृतिक और टूरिज्म विभाग के मुताबिक ये लोग पारंपरिक परिधान में ढोल-नगाड़े बजाकर अमेरिकी राष्ट्रपति और उनकी पत्नी का भव्य स्वागत करेंगे.  

ये भी पढ़ें: 400 हाईटेक कैमरे रखेंगे डोनाल्ड ट्रंप की सुरक्षा पर नजर, जानिए और क्या हैं तैयारियां

सांस्कृतिक और टूरिज्म विभाग के मुताबिक ट्रंप के स्वागत के लिए तराल जनजाति के 11 पुरुष और 10 महिलाओं की टीम अहमदाबाद जाएगी. ये सभी लोग पारंपरिक पोशाक पहनकर ढोल-नगाड़ों की धुन पर पारंपरिक नृत्य प्रस्तुत करेंगे. 

इतनी बड़ी जिम्मेदारी मिलने पर तराल समाज गदगद है. रमेश तराल ने कहा कि उन्हें या उनके समाज में से किसी को आज तक इतनी बड़ी जिम्मेदारी नहीं सौंपी गई. उन्होंने बताया कि ट्रंप के स्वागत में हम अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते इसलिए हमने एक सप्ताह पहले से ही अपने पारंपरिक नृत्य की प्रैक्टिस शुरू कर दी है.

लाइव टीवी देखें