close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पीएम मोदी ने पुलिस की बैठक में की महिला सुरक्षा की समीक्षा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां पुलिस महानिदेशकों और पुलिस महानिरीक्षकों के सालाना सम्मेलन में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के साथ देश की सुरक्षा व्यवस्था, खासतौर पर आतंकवाद और महिला सुरक्षा, की समीक्षा की। साथ ही, इन अधिकारियों से जानकारी भी ली।

पीएम मोदी ने पुलिस की बैठक में की महिला सुरक्षा की समीक्षा
फाइल फोटो

कच्छ का रण (गुजरात) : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां पुलिस महानिदेशकों और पुलिस महानिरीक्षकों के सालाना सम्मेलन में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के साथ देश की सुरक्षा व्यवस्था, खासतौर पर आतंकवाद और महिला सुरक्षा, की समीक्षा की। साथ ही, इन अधिकारियों से जानकारी भी ली।

सम्मेलन के दूसरे दिन प्रधानमंत्री थीम आधारित कई सत्रों में शरीक हुए जहां अधिकारियों ने उन्हें संबद्ध विषयों पर जानकारी दी।

मोदी ने एक ट्वीट में कहा, ‘कच्छ में डीजीपी सम्मेलन में यह एक सार्थक दिन रहा। सुरक्षा से जुड़े विषय, आतंकवाद, साइबर सुरक्षा, महिला सुरक्षा, आपदा प्रबंधन पर प्रस्तुतियां दी गईं और सत्र चले।’ इससे पहले मोदी सुबह प्रतिनिधियों और विभिन्न राज्यों एवं केंद्रीय पुलिस संगठनों के डीजीपी तथा आईजी के साथ योग सत्र में शरीक हुए। उन्होंने रण में सूर्योदय भी देखा। आधिकारिक बयान में बताया गया है कि पुलिस व्यवस्था के विभिन्न पहलुओं पर उन्हें ठोस जानकारी दी गई। प्रधानमंत्री चर्चा में भी शामिल हुए।

मोदी ने आतंकवाद, साइबर सुरक्षा, डिजीटल प्रौद्योगिकी, महिला सुरक्षा और आपदा प्रबंधन सहित सुरक्षा से जुड़े विषयों पर उनकी बातें सुनीं और संबद्ध विषयों पर चर्चा की।

आज प्रस्तुतियां, ब्रेक आउट सत्र और खाने पर चर्चा के लिए कुल 13 घंटे का कार्यक्रम था।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह और गृह राज्य मंत्री किरन रिजिजू तथा हरिभाई पर्थीभाई चौधरी भी सत्रों के दौरान उपस्थित थे।

सम्मेलन के पहले दिन कल गृहमंत्री ने सोशल मीडिया और अन्य ऑनलाइन मंचों के जरिए युवाओं के कट्टरपंथी होने पर गंभीर चिंता जताई थी।

उन्होंने कहा था कि दुर्दांत आतंकवादी संगठन आईएसआईएस की भारत में मौजूदगी का पता चला है और सोशल मीडिया एवं ऑनलाइन के अन्य मंचों के जरिए युवाओं के कट्टरपंथी बनने को लेकर चिंताएं हैं।

उन्होंने कहा, ‘यह तथ्य है कि आईएसआईएस की गतिविधियां वैश्विक स्तर पर बढ़ी है और भारत भी इससे अछूता नहीं है।’