J&K: आतंकियों के निशाने पर नेशनल हाइवे, सुरक्षाबलों के साथ ड्रोन से होगी 24 घंटे निगरानी

श्रीनगर जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर हमलों की बढ़ती संख्या सुरक्षाबलों के लिए एक बड़ी चुनौती बन गई है. एक महीने से भी कम समय में इस राजमार्ग पर लगातार तीन आतंकी हमले हो चुके हैं. पूरे राजमार्ग पर बढ़ी चौकसी के साथ ड्रोन से निगरानी भी होगी. 

J&K: आतंकियों के निशाने पर नेशनल हाइवे, सुरक्षाबलों के साथ ड्रोन से होगी 24 घंटे निगरानी
फ़ाइल फोटो

श्रीनगर: जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग (Jammu-Srinagar National Highway) पर हमलों की बढ़ती संख्या सुरक्षाबलों के लिए एक बड़ी चुनौती बन गई है. एक महीने से भी कम समय में इस राजमार्ग पर लगातार तीन आतंकी हमले हो चुके हैं. इसी के चलते भारी सुरक्षाबलों की तैनाती के साथ-साथ 24 घंटे हवाई निगरानी (Drone) की भी योजना बनाई जा रही है. 

जम्मू-कश्मीर पुलिस डीजी दिलबाग सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुरक्षा ग्रिड को मजबूत करने के लिए टेक्नोलोजी का उपयोग किया जा रहा है. ड्रोन की मदद से 24 घंटे निगरानी की जा रही है. वहीं वाहनों की जांच के सवाल पर उन्होंने कहा कि राजमार्ग एक संवेदनशील क्षेत्र है और चूंकि यातायात का दबाव इतना अधिक है कि उस संबंध में बहुत कुछ नहीं किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें:- TRP रैकेट: क्‍या रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्‍वामी की होगी गिरफ्तारी?

राष्ट्रीय राजमार्ग हमेशा ट्रैफिक से भरा रहता है और आतंकवादियों के लिए बाइक पर चलना आसान होता है. हम हर एक वाहन की जांच नहीं कर सकते, क्योंकि इससे ट्रैफिक जाम और जनता को असुविधा होगी. इसलिए हम विशिष्ट इनपुट पर काम करते हैं. पुलिस मानती है कि राष्ट्रीय राजमार्ग आतंकियों के निशाने पर रहता है इसलिए किसी भी खतरे से निपटने के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंजताम किए जा रहे हैं.

कश्मीर आईजी ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात का दवाब अधिक है. ऐसे में अगर हम भी आतंकियों पर अंधाधुंध गोलियां चलाने लगे तो ऐसे में आम लोगों के घायल होने का खतरा बढ़ जाएगा. इसलिए हम लोगों को बड़े एहतियात के साथ फायर करना होता है. गौरतलब है की जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर एक महीने से भी कम समय में तीन हमले हुए हैं. सुरक्षाबलों पर अब तक का सबसे घातक हमला 2019 में भी इसी राष्ट्रीय राजमार्ग पर हुआ था जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे.

LIVE TV