Breaking News
  • 'भारत हमेशा चुनौतियों से बाहर निकला है', इंडिया ग्लोबल वीक 2020 में बोले पीएम नरेंद्र मोदी

Navy Day 2018: भारतीय नौसेना दिवस पर जानिए क्या है 'ऑपरेशन ट्राइडेंट' ?

भारत ने 4 दिसंबर को कराची पर हमले की तैयारी शुरू कर दी. भारत ने पाकिस्तान पर रात के समय हमला करने की तैयारी की, क्योंकि पाकिस्तानी रात के समय हमले के लिए तैयार नहीं थी.

Navy Day 2018: भारतीय नौसेना दिवस पर जानिए क्या है 'ऑपरेशन ट्राइडेंट' ?
फोटो साभारः ANI

नई दिल्लीः आज पूरे देश में भारतीय नौसेना दिवस मनाया जा रहा. 4 दिसंबर के दिन यह दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि आज ही के दिन भारत के जाबांज सैनिकों ने पाकिस्तानी सैनिकों को करारी शिकस्त दी थी. दरअसल, साल 1971 के दौरान भारत-पाकिस्तान के रिश्ते काफी तनावपूर्ण हो गए थे, जिसके चलते 3 दिसंबर को पाकिस्तानी सेना ने भारत के सीमावर्ती क्षेत्रों पर हमला कर दिया. जिसके बाद दोनों देशों के बीच बिगड़ते रिश्तों को देखते हुए भारत ने सीमा पर 3 विद्युत मिसाइल तैनात कर दिए और शुरू किया 'ऑपरेशन ट्राइडेंट'. इस ऑपरेशन के तहत भारत ने 4 दिसंबर को कराची पर हमले की तैयारी शुरू कर दी. भारत ने पाकिस्तान पर रात के समय हमला करने की तैयारी की, क्योंकि पाकिस्तानी रात के समय हमले के लिए तैयार नहीं थी.

नौसेना दिवसः रंगो की रौशनी से सजा गेटवे ऑफ इंडिया, सेना ने किया 'बीटिंग द रिट्रीट' का आयोजन

बता दें यह ऑपरेशन पाकिस्तान नौसेना के कराची स्थित मुख्यालय को निशाने पर लेकर शुरू किया गया. जिसके अंतर्गत एक मिसाइल नाव और दो युद्ध-पोत के एक समूह ने कराची के तट पर स्थित जहाजों पर हमला कर दिया और पाकिस्तान के कई जहाज नेस्‍तनाबूद कर दिए गए. हमले मे पाकिस्तान के ऑयल टैंकर भी बर्बाद कर दिए गए. इस हमले से पाकिस्तान को जो झटका लगा वह पाकिस्तान अभी तक नहीं भुला पाया है और भारत इसी जीत के चलते आज के दिन भारत में नौसेना दिवस मनाया जाता है.

इंडियन नेवी डे पर नौसैनिकों की जांबाजी को सलाम

बता दें 1971 के युद्ध में भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तान के 500 से भी ज्यादा नौसेनिक मार गिराए थे और पाकिस्तान के चार युद्ध पोत भी नेस्तानाबूद कर दिए थे. इस युद्ध में INS निर्घात, INS वीर और INS निपट ने भारत को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी. इस युद्ध के बाद भारत की ताकत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि युद्ध में भारत को किसी भी तरह का नुकसान नहीं हुआ था.