शरद पवार के सबसे खास नेता की 48 घंटे से हो रही थी 'तलाश', होटल ग्रैंड हयात में हुए 'प्रकट'

शरद पवार के सबसे खास नेता की 48 घंटे से हो रही थी 'तलाश', होटल ग्रैंड हयात में हुए 'प्रकट'

मीडिया में खबरें चल रही थी कि आखिर शरद पटेल के साथ प्रफुल्ल पटेल क्यों नहीं दिख रहे हैं. शरद पवार और सुप्रिया जहां खुद बागी विधायकों को एकजुट करने में लगे रहे, वहीं प्रफुल्ल पटेल ऐसे नाजुक मौके पर कहां है? आखिर सोमवार को मुंबई के ग्रैंड हयात होटल में जब शिवसेना, एनसीपी, कांग्रेस और अन्य निर्दलीय विधायकों की परेड हो रही थी, तब प्रफुल्ल पटेल वहां दिखे.

शरद पवार के सबसे खास नेता की 48 घंटे से हो रही थी 'तलाश', होटल ग्रैंड हयात में हुए 'प्रकट'

मुंबई: शनिवार तड़के जब टीवी स्क्रीन पर देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री और एनसीपी के नेता अजित पवार उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेते दिखे तो ना केवल महाराष्ट्र बल्कि पूरे देश में हलचल शुरू हो गई. इन तस्वीरों के आने के करीब घंटे भर बाद खबरें आईं कि अजित पवार ने एनसीपी प्रमुख और अपने चाचा शरद पवार से बगावत करके उपमुख्यमंत्री बने हैं. इसके बाद शरद पवार और उनकी बेटी सुप्रिया सुले ने खुद मोर्चा संभाला और अजित पवार के साथ गए विधायकों को दोबारा से एनसीपी के साथ लाने में जुट गए. 

महाराष्ट्र में अजीत पवार की अगुवाई में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के विधायकों को फिर से शरद पवार के समर्थन में लाने के राजनीतिक उठापटक व व्यस्तता के बीच शरद पवार के करीबी सहयोगी प्रफुल्ल पटेल राजनीतिक परिदृश्य में सक्रिय नहीं दिखे. इतना ही नहीं प्रफुल्ल पटेल ट्विटर पर भी पिछले चार दिनों से सक्रिय नहीं दिखे. उन्होंने शुक्रवार को फुटबॉल को लेकर ट्वीट किया था, लेकिन इसके बाद उन्होंने अजीत पवार के पार्टी से विद्रोह पर कुछ नहीं कहा. 

लाइव टीवी देखें-:

इसके बाद मीडिया में खबरें चलने लगी कि आखिर शरद पटेल के साथ प्रफुल्ल पटेल क्यों नहीं दिख रहे हैं. शरद पवार और सुप्रिया जहां खुद बागी विधायकों को एकजुट करने में लगे रहे, वहीं प्रफुल्ल पटेल ऐसे नाजुक मौके पर कहां है? आखिर सोमवार को मुंबई के ग्रैंड हयात होटल में जब शिवसेना, एनसीपी, कांग्रेस और अन्य निर्दलीय विधायकों की परेड हो रही थी, तब प्रफुल्ल पटेल वहां दिखे.

होटल ग्रैंड हयात में सबसे पहले जहां शरद पवार और सुप्रिया सुले सबसे पहुंचे. इसके बाद छगन भुजव्वल पहुंचे. वहीं एनसीपी के बड़े नेताओं में प्रफुल्ल पटेल सबसे पीछे पहुंचे.

अजित पवार को मनाने की कोशिश नाकाम
होटल ग्रैंड हयात में एनसीपी के बागी नेता अजित पवार नहीं पहुंचे. इसके साथ ही साफ हो गया है कि अजित पवार को मनाने की तीन कोशिशें नाकाम साबित हुई हैं. इसमें दो शनिवार को की गईं, जिसमें दिलीप वलसे पाटिल और हसन मुशरीफ ने उनसे मुलाकात की थी और एक कोशिश रविवार को की गई. रविवार को शरद पवार ने जयंत पाटिल को उनके पास भेजा था. ऐसी बातचीत के लिए शरद पवार पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल पर ज्यादा निर्भर रहते हैं. प्रफुल पटेल एयर इंडिया घोटाले में जांच का सामना कर रहे हैं.

एनसीपी के एक सूत्र ने कहा है कि घोटाले में जांच से बचने के लिए वह शांत हैं. जबकि एक अन्य व्यक्ति ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर कहा कि जब शरद पवार खुद सारा मामला संभाल रहे हैं तो किसी और की क्या जरूरत है. वहीं पार्टी के कुछ लोगों का कहना है कि प्रफुल्ल पटेल को अजीत पवार के विद्रोह की भनक लगी थी लेकिन उन्होंने पार्टी को समय पर सूचित नहीं किया. एनसीपी नेता उन्हें लेकर चौकन्ना हैं.

एनसीपी के प्रवक्ता नवाब मलिक ने पहले कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को फ्लोर टेस्ट पर जोर देने के बजाय इस्तीफा दे देना चाहिए.

मलिक ने कहा कि जहां तक विधायकों का संबंध हैं, पांच विधायक संपर्क में नहीं थे. उनमें से दो वापस आ गए हैं. तीसरे विधायक ने वीडियो के माध्यम से अपना संदेश भेजा है. हमारे सभी विधायक आज शाम तक वापस आ जाएंगे. मलिक ने आरोप लगाया कि महाराष्ट्र सरकार के पास पर्याप्त विधायकों का समर्थन नहीं है. उन्होंने कहा, 'हम चाहते हैं कि देवेंद्रजी इस्तीफा दें. अगर वह इस्तीफा नहीं देते हैं तो हम निश्चित तौर पर सरकार को विधानसभा में हराएंगे और नई सरकार बनाएंगे.'

Trending news