महाराष्ट्र: शरद पवार ने बुलाई आज NCP की अहम बैठक, कल करेंगे सोनिया गांधी से मुलाकात

बैठक के बाद शरद पवार दिल्ली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने जाएंगे.

महाराष्ट्र: शरद पवार ने बुलाई आज NCP की अहम बैठक, कल करेंगे सोनिया गांधी से मुलाकात
शरद पवार की एनसीपी चाहती है कि कांग्रेस इस सरकार का हिस्सा बने. (फाइल फोटो)

मुंबई: महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक गतिरोध के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने राज्य में सरकार गठन के बारे में अगली रणनीति तय करने के लिए अपनी पार्टी के नेताओं की एक अहम बैठक बुलाई है. एनसीपी कोर कमेटी की बैठक आज शाम 4 बजे पुणे में पवार के निवास पर होगी.

राकांपा नेता नवाब मलिक के अनुसार,  महाराष्ट्र में राजनीतिक स्थिति पर चर्चा करने के लिए उनकी पार्टी की 21 सदस्यीय बैठक शरद पवार के साथ पुणे में आयोजित की जाएगी.

मलिक ने शनिवार को संवाददाताओं से कहा था कि एनसीपी के नेता राजनीतिक गतिरोध को दूर करने के लिए रणनीतियों पर चर्चा करेंगे, जिसके बाद शरद पवार दिल्ली में कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने जाएंगे. उन्होंने कहा कि मंगलवार तक कांग्रेस और एनसीपी नेताओं के बीच बैठक की पूरी संभावना है, जहां हम इस बात पर चर्चा करेंगे कि कांग्रेस महाराष्ट्र सरकार के गठन में शामिल होगी या नहीं.

महाराष्ट्र: शिवसेना, कांग्रेस, NCP ने तैयार किया CMP, इन मुद्दों पर अभी भी हो सकता है टकराव

न्यूज एजेंसियों के अनुसार, महाराष्ट्र में सरकार गठन के सिलसिले में कांग्रेस की आंतरिक अध्यक्ष सोनिया गांधी और शरद पवार के बीच बहुप्रतीक्षित बैठक रविवार को संभावित थी, जो अब सोमवार को होगी.

कांग्रेस सूत्रों के अनुसार, बैठक सोनिया गांधी के आवास पर होगी, जिसमें महाराष्ट्र में मंगलवार को राष्ट्रपति शासन लागू किए जाने पर केंद्रित वार्ता होने की संभावना है.

EXCLUSIVE: शिवसेना के CM के साथ 16+14+12 का सत्‍ता का फॉर्मूला तय

पार्टी सूत्रों ने कहा कि चुनाव पूर्व गठबंधन साझेदार कांग्रेस और एनसीपी ने शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने के लिए न्यूनतम साझा कार्यक्रम (CMP) तैयार कर लिया है.

सूत्रों ने संकेत दिया कि बैठक के दौरान तीन पार्टियों के बीच विभागों के बंटवारे और सरकार के लिए फॉर्मूले पर चर्चा होगी.

कांग्रेस सूत्रों ने कहा कि सबसे पुरानी पार्टी चाहती है कि शिवसेना अपनी कट्टर हिंदुत्ववादी विचारधारा को ढक ले और कुछ मुद्दों पर धर्मनिरपेक्ष रुख अपनाए. उन्होंने यह भी कहा कि राकांपा चाहती है कि कांग्रेस इस सरकार का हिस्सा बने.