close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भूख से 3 बच्चियों के मरने के मामले में NHRC ने लिया संज्ञान, दिल्ली सरकार को भेजा नोटिस

दिल्ली के मंडावली में 3 बच्चियों के भूख से मरने की घटना का राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने संज्ञान लिया है

भूख से 3 बच्चियों के मरने के मामले में NHRC ने लिया संज्ञान, दिल्ली सरकार को भेजा नोटिस
आयोग ने दिल्ली के मुख्य सचिव को नोटिस जारी कर 2 सप्ताह में इस मामले पर जवाब मांगा है (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली के मंडावली में 3 बच्चियों के भूख से मरने की घटना का राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने संज्ञान लिया है. आयोग ने दिल्ली के मुख्य सचिव को नोटिस जारी कर 2 सप्ताह में इस मामले पर जवाब मांगा है. दरअसल, इंसानियत को शर्मसार करने वाली यह घटना मंडावली इलाके में मंगलवार को हुई थी, तब तीनों सगी बहनें शिखा (8), मानसी (4) और पारुल (2) की मौत भुख से हो गई थी. इस बीच शवों का पोस्टमार्टम करने वाले लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल के डॉक्टरों ने बुधवार को जो प्राथमिक जानकारी दी, उससे हड़कंप मच गया था.

करीब 15 दिनों से बच्चियों को खाना नहीं हो रहा था नसीब
दिल्ली के मंडावली के साकेत ब्लॉक के गली नम्बर- 14 में जब जी मीडिया की टीम पहुंची, तो वहां के पड़ोसियों ने जी मीडिया को बताया कि करीब 15 दिनों से बच्चियों को खाना नसीब नहीं हो रहा था. जानकारी के मुताबिक बच्ची का पिता शराबी था और रिक्शा चलाया करता था लेकिन उसके रिक्शा चोरी होने के बाद से मकान मालिक उसे मकान खाली करने को कहता था. क्योंकि मकान का किराया करीब दो-तीन महीने का बकाया था. बताया जा रहा है कि किराया नहीं देने पर शनिवार को मकान मालिक ने घर खाली करा लिया था.

बच्चियों के पेट में खाने का एक भी दाना नहीं था
डॉक्टरों ने बताया था कि बच्चियां कई दिनों से भूखी थीं. उनके पेट में खाने का एक भी दाना नहीं था. उनके शरीर पर न तो चोट के निशान थे और न ही शरीर में जहर का अंश मिला है. ऐसे में संभव है कि भूख से ही तीनों बच्चियों की मौत हुई हो. यह बात पुलिस के गले नहीं उतरी. इसलिए मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने बुधवार को गुरु तेग बहादुर (जीटीबी) अस्पताल में मेडिकल बोर्ड द्वारा दोबारा पोस्टमार्टम कराया था. उसकी वीडियोग्राफी भी की गई और विसरा को भी सुरक्षित कर जांच के लिए भेज दिया गया था. पहले पोस्टमार्टम की रिपोर्ट तीन दिन और मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट आने में अमूमन 14 दिन लगते हैं. रिपोर्ट बेशक बाद में आए, लेकिन शुरुआती जांच में भूख के कारण बच्चियों की हुई मौत वाकई सरकार, प्रशासन और समाज पर सवाल उठाती है. उधर, दिल्ली सरकार ने इस मामले की मजिस्ट्रेट जांच का आदेश दिया है.