शहीद कैप्‍टन सौरभ कालिया के पिता बोले, 'जब तक न सुधरे पाकिस्‍तान, तब तक न हो कोई बात'

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान दोस्ती के लिए हाथ बढ़ा रहा है और दूसरी तरफ सेना पर हमारे जवानों की निर्मम हत्या कर रहा है. ऐसे में दोस्ती के लिए वार्ता कैसे की जा सकती है. 

शहीद कैप्‍टन सौरभ कालिया के पिता बोले, 'जब तक न सुधरे पाकिस्‍तान, तब तक न हो कोई बात'
भारत के इस कदम पर शहीद कैप्टन सौरभ कालिया के पिता डॉ. एनके कालिया ने सराहना की है. (फोटो-एएनआई)
Play

नई दिल्ली: पाकिस्तान की रिश्ते सुधारने के लिए वार्ता और दूसरी तरफ आतंकियों को बढ़ावा देने की नीति को जारी रखने की दोहरी चाल के कारण भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के बीच अगले हफ्ते प्रस्तावित वार्ता को भारत ने रद्द कर दिया है. भारत के इस कदम की शहीद कैप्टन सौरभ कालिया के पिता डॉ. एनके कालिया ने सराहना की है. 

कैप्टन कालिया के पिता डॉ. एनके कालिया ने कहा, पाकिस्तान के साथ तब तक कोई बातचीत नहीं की जानी चाहिए, जब तक ये साबित न हो कि इसका इरादा नेक है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान दोस्ती के लिए हाथ बढ़ा रहा है और दूसरी तरफ सेना पर हमारे जवानों की निर्मम हत्या कर रहा है. ऐसे में दोस्ती के लिए वार्ता कैसे की जा सकती है?

NK Kalia says No talks should be held with Pakistan till the time it proves that it has sincere intentions

उन्होंने कहा कि ऐसे धोखेबाजों को तो सबक सिखाने की जरूरत है. डॉ. एनके कालिया ने कहा कि पाकिस्तान ने पिछले 70 सालों से भारत के साथ धोखा ही किया है. न्यूयॉर्क में भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के बीच वार्ता का प्रस्ताव स्वीकारना भी भारत की भूल बताया. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की काली करतूत का उसे अहसास करवाना जरूरी है. 

NK Kalia says No talks should be held with Pakistan till the time it proves that it has sincere intentions
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया को ये जानकारी दी थी.

आपको बता दें कि शुक्रवार कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों की हत्या पाक परस्त आतंकियों ने की. इसके साथ ही पाकिस्तान सरकार की तरफ से आतंकी बुरहान बानी को सम्मान देते हुए 20 डाक टिकट जारी किए गए. सरहद पर जवान की नृशंस हत्या के बाद भारत को इस वार्ता को रद्द कर दिया था.  

भारत ने ये भी दलील दी है कि वह पाकिस्तान के नये पीएम और विदेश मंत्री के पत्रों में व्यक्त भावना के जवाब में वार्ता के लिए तैयार हुआ. दोनों ने भारत और पाकिस्तान के बीच मौजूदा माहौल में सकारात्मक बदलाव लाने की बात कही थी, साथ ही उन्होंने आतंक पर बात करते हुए शांति लाने की बात कही थी, लेकिन हालात जस के तस बनें हुए हैं.