बीजेपी और कांग्रेस के बीच अब बसों के बिल को लेकर छिड़ी जंग

दिल्ली बीजेपी के महासचिव कुलजीत सिंह चहल ने राजस्थान सरकार से उन 1000 बसों के बिल का ब्यौरा मांगा है जिन्हें राजस्थान सरकार ने कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा की मांग पर दिल्ली तक भेजी थी.

बीजेपी और कांग्रेस के बीच अब बसों के बिल को लेकर छिड़ी जंग

नई दिल्ली: बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) के बीच बसों को लेकर सियासत जारी है. कोटा से छात्रों को उत्तर प्रदेश वापस भेजने के एवज में राजस्थान सरकार ने यूपी सरकार को किराए के लिए बिल भेजा तो अब भाजपा ने इस पर सवाल खड़े किए हैं. राजस्थान सरकार के पत्र को वायरल कर भाजपा नेता कांग्रेस पर निशाना साधने में जुटे हैं. भाजपा का कहना है कि कोटा में फंसे छात्रों को भेजने के लिए राजस्थान सरकार तो यूपी को बिल भेज रही है, लेकिन उन बसों का बिल सार्वजनिक करे, जो प्रियंका गांधी के कहने पर भेजी गईं थीं.

दिल्ली बीजेपी के महासचिव कुलजीत सिंह चहल ने राजस्थान सरकार से उन 1000 बसों के बिल का ब्यौरा मांगा है जिन्हें राजस्थान सरकार ने कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा की मांग पर दिल्ली तक भेजी थी. एक ट्वीट करते हुए भाजपा नेता चहल ने राजस्थान सरकार से कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी के कहने पर भेजी गईं बसों के किराए की सच्चाई देश के सामने रखने की मांग की है. 

ये भी पढ़ें: 'अम्फान' के कहर पर PM मोदी का ऐलान, पश्चिम बंगाल को एक हजार करोड़ का राहत पैकेज

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, 'CM अशोक गहलोत जी देश जानना चाहता है! 1000 बसों के लिए कांग्रेस ने राजस्थान सरकार को कितने का भुगतान किया? भुगतान की रसीद कहां है? राजस्थान ने 70 बसों से कोटा से बच्चों को भेजने का यूपी सरकार को 36 लाख रुपए का बिल भेजा. कांग्रेस को 1000 बसों का कितना ? हिसाब  दो ?'

बता दें कि राजस्थान के कोटा में लॉक डाउन के चलते कई राज्यों के छात्र मुश्किल में फंस गए थे. इसमें उत्तर प्रदेश के छात्र बड़ी तादाद में थे. यूपी के छात्रों को बसों के जरिए कोटा से आगरा और दूसरे शहरों तक भेजने के लिए राजस्थान परिवहन निगम ने बस में उपलब्ध कराई थी. इन्हीं बसों का बिल राजस्थान सरकार ने भुगतान के लिए भेजा है. जिसके बाद भाजपा अब राजस्थान सरकार और कांग्रेस की घेराबंदी करने में जुटी है.