close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

असम में आज जारी होगी एनआरसी की आखिरी लिस्‍ट, राज्‍य में सुरक्षा के कड़े इंतजाम

असम की राजधानी गुवाहाटी समेत राज्य के कई अन्य संवेदनशील इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है.

असम में आज जारी होगी एनआरसी की आखिरी लिस्‍ट, राज्‍य में सुरक्षा के कड़े इंतजाम
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली/गुवाहाटी : पूर्वोत्तर राज्य असम में आज नेशनल सिटिज़न रजिस्टर यानी एनआरसी की आख़िरी लिस्ट जारी की जाएगी. राज्य में भारतीय और बाहरियों की पहचान करने वाली एनआरसी की अंतिम सूची सुबह 10 बजे जारी. फाइनल लिस्ट आने के बाद ये तय होगा कि करीब 40 लाख लोगों का भविष्य क्या होगा. लिहाजा, मामले की गंभीरता के मद्देनज़र पूरे असम में सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं. असम की राजधानी गुवाहाटी समेत राज्य के कई अन्य संवेदनशील इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है.

असम के मुख्‍यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल का कहना है कि किसी भी शख्स को दशहत में आने की जरूरत नहीं है और हम असम सरकार की ओर से आपको भरोसा दिलाना चाहते हैं कि सभी का विशेष ध्यान रखा जाएगा.

दरअसल, असम में 3 करोड़ 29 लाख लोगों ने NRC में नाम शामिल करने का आवेदन किया था, लेकिन पिछले साल जारी ड्राफ्ट लिस्ट में इनमें से सिर्फ 2 करोड़ 90 लाख लोगों का नाम ही शामिल किया गया, क्योंकि बाकी के करीब 40 लाख लोग अपनी नागरिकता साबित करने वाला कोई दस्तावेज नहीं दे पाये थे.

उधर, केंद्र सरकार ने असम के लोगों को भरोसा दिलाया कि जिसका लिस्ट में नाम नहीं है, उसे हिरासत में नहीं लिया जाएगा और उसे अपनी नागरिकता साबित करने का हरसंभव मौका दिया जाएगा. जिनका नाम लिस्ट में नहीं होगा वो फ़ॉरेनर्स ट्राइब्यूनल में अपील कर सकेंगे. सरकार ने अपील दायर करने की समय सीमा भी 60 से बढ़ाकर 120 दिन कर दी है.

LIVE TV...

इस संबंध में एक समीक्षा बैठक बीते 20 अगस्‍त को हुई थी, जिसकी अध्यक्षता गृहमंत्री अमित शाह ने की थी. इसमें अंतिम एनआरसी से बाहर लोगों को निर्धारित समय में अपील दायर करने में आने वाली सभी दिक्कतों को संशोधित करने का फैसला किया गया था. इस बैठक में असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, केंद्रीय गृह सचिव राजीव गौबा, असम के मुख्य सचिव व वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया था.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अंतिम एनआरसी प्रकाशित करने की तारीख को 31 जुलाई से बढ़ाकर 31 अगस्त कर दी थी.