अदालत ने आरोपियों को बरी किया, तो पीड़ित ने भरी कोर्ट में खुद ही कर दिया फैसला

अदालत के फैसले ने नाखुश एक बूढ़े आदमी ने मजिस्ट्रेट के सामने ही अपने विरोधियों पर चाकू से जानलेवा हमला कर दिया.

अदालत ने आरोपियों को बरी किया, तो पीड़ित ने भरी कोर्ट में खुद ही कर दिया फैसला
अदालत के फैसले से नाखुश एक बुजुर्ग व्यक्ति ने कोर्ट में ही आरोपियों पर चाकू से हमला कर दिया(प्रतीकात्मक फोटो)

मुंबई: अदालत के फैसले ने नाखुश एक बुजुर्ग आदमी ने मजिस्ट्रेट के सामने ही अपने विरोधियों पर चाकू से जानलेवा हमला कर दिया. यह घटना मुंबई की भोइवाड़ा अदालत में बुधवार को घटित हुई. भरी अदालत में चाकू चलने से अफरा-तफरी मच गई. पुलिस ने हमलावर को गिरफ्तार कर लिया और घायलों को अस्पताल पहुंचाया. घायलों की हालत खतरे से बाहर बताई गई है.

भोइवाडा पुलिस के मुताबिक, दादर के रहने वाले हरिश्चंद्र शिरकर (67) का कपड़ों का कारोबार है. 2009 में हरिश्चंद्र का किसी बात को लेकर महेश वासुदेव और नंदेश भीकूराम से झगड़ा हुआ था. इन लोगों ने हरिश्चंद्र पर जानलेवा हमला किया था, जिसमें वह बुरी तरह घायल हुआ था. हरिश्चंद्र ने इस मामले में दोनों आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी. रिपोर्ट के आधार पर आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया था. तभी से यह मामला अदालत में चल रहा है. बुधवार को भोइवाडा अदालत में सुनवाई दे दौरान मजिस्ट्रेट ने दोनों आरोपियों को बाइज्जत बरी कर दिया.

VIDEO: फिल्मी अंदाज में पुलिस पर बरसाईं गोलियां, कोर्ट से भगा ले गए इनामी बदमाश

पुलिस ने बताया कि शायद हरिश्चंद्र अदालत के फैसले को लेकर पहले ही जान चुका था, इसलिए उसने खुद ही आरोपियों को सबक सिखाने का फैसला किया. जैसे ही जज ने नंदेश और महेश को बरी किया, वहीं खड़ा हरिश्चंद्र उनकी ओर लपका और जेब से चाकू निकालकर दोनों पर हमला कर दिया. अदालत में अचानक हुए इस हमले से अफरा-तफरी मच गई. वहां मौजूद पुलिस ने फौरन ही हरिश्चंद्र को दबोच लिया और चाकू को अपने कब्जे में लिया. पुलिस ने घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया, उनकी हालत खतरे से बाहर बताई गई है. उधर, हरिश्चंद्र को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया.