भारत में हर 4 मिनट में एक व्यक्ति करता है आत्महत्या, चौंकाने वाले हैं NCRB के आंकड़े

भारत में मानसिक बीमारी को बीमारी नही माना जाता है और इसके बारे में ज्यादा खुल कर बात भी नहीं की जाती. यही कारण है कि भारत में हर 4 मिनट में एक व्यक्ति आत्महत्या करता है.

भारत में हर 4 मिनट में एक व्यक्ति करता है आत्महत्या, चौंकाने वाले हैं NCRB के आंकड़े
कोरोना आने के बाद लोगों में मानसिक समस्या बढ़ी है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: आज विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस (World Mental Health Day) है. आज का दिन मानसिक परेशानियों और इस से जूझ रहे लोगों के बीच जागरुकता फैलाने के लिए किया जाता है. वैसे से तो हमारे देश में मानसिक बीमारी को बीमारी नही माना जाता है और इसके बारे में ज्यादा खुल कर बात भी नहीं की जाती. यही कारण है कि भारत में हर 4 मिनट में एक व्यक्ति आत्महत्या करता है. ये कहना गलत नही होगा कि हमारे देश में आत्महत्या ने एक महामारी का रुप ले लिया है. 

चौंकाने वाले हैं NCRB के आंकड़े

एनसीआरबी के मुताबिक भारत मे हर दिन 381 लोग आत्महत्या करते हैं, यानी हर एक घंटे में करीब 16 लोग अपनी जान ले लेते हैं. साल 2019 में कुल 1 लाख 39 हजार 123 लोगों ने आत्‍महत्‍या की, जो 2018 की तुलना में करीब 3.4 फीसद ज्‍यादा हैं. यानी खुदखुशी करने वालों की संख्या बढ़ी है.

लोग क्यों करते हैं आत्महत्या

NCRB के आंकड़ों के अनुसार देश में 32.4 फीसद मामलों में लोगों ने पारिवारिक समस्याओं के चलते खुदखुशाी की तो 17.1 फीसद लोगों ने बीमारी से परेशान होकर ये घातक कदम उठाया. वहीं 5.5 प्रतिशत लोगों ने वैवाहिक समस्याओं के चलते अपनी जान दी तो 4.5 फीसद लोगों ने प्रेम की वजह से आत्‍महत्‍या की. देश में 2 फीसद लोगों की आत्‍महत्‍या करने की वजह बेरोजगारी और एग्‍जाम में फेल होना रही, जबकि 5.6 फीसद लोगों ने ड्रग एडिक्‍शन के चुंगल में फंसकर अपनी जान गंवाई.

पुरुष ज्यादा करते हैं आत्महत्या

आंकड़ों के मुताबिक आत्महत्या के प्रत्येक 100 मामलों में से 29.8 फीसद में महिलाएं और 70.2 फीसद पुरुष शामिल थे. इनमें भी लगभग 68.4 फीसद पुरुष विवाहित थे और 62.5 फीसद विवाहित महिलाएं थीं. गांव के मुकाबले शहरों में ज्यादा लोग मानसिक बीमारियों का शिकार हो रहे है. 2019 में शहरों में आत्महत्या की दर 13.9 फीसद रही है जो पूरे भारत में आत्महत्या की दर 10.4 फीसद से अधिक थी.

सबसे ज्यादा सर्च कीवर्ड्स

सुसाइड को लेकर इंटरनेट पर सर्च के लिए 3 तरह के कीवर्ड का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है.

1. पहले वो जिसमे लोग सिर्फ (Awareness) जागरूकता के लिए कुछ सर्च करते हैं. जैसे सुसाइड क्या होता है, डिप्रेशन क्या होता है, इसके लक्षण क्या होते है.
2. यहां लोग Validation के लिए सर्च करते हैं, जैसे क्या मैं उस स्तर पर पहुंच गया हूं कि आत्महत्या कर सकूं, खुदकुशी के लिए कौन सा तरीका अपनाना है.
3. तीसरे लोग मदद के लिए इंटरनेट पर सर्च करते है, जैसे हेल्पलाइन नंबर, NGO, वॉलंटियर्स इत्यादि

क्या होती है कॉपी कैट डेथ

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि बड़ी संख्या में कॉपी कैट डेथ भी सर्च किया गया. कॉपी कैट डेथ यानि एक ऐसा स्टेट ऑफ माइंड है जिसमें किसी पसंदीदा सेलिब्रिटी की मृत्यु हो जाने से उसी तरह से खुदखुशी करने की कोशिश करते हैं. मनोचिकित्सक बताते हैं कि कॉपी कैट डेथ को वरदर इफेक्ट भी बोला जाता है.

भारत में ग्लोबल एवरेज से ज्यादा आत्महत्या

2019 में अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्था 'ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज' की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार भारत में हर साल 2.3 लाख लोग आत्महत्या कर रहे हैं. जिसका अर्थ है हर चार मिनट में हिंदुस्तान में एक व्यक्ति अपनी जान ले रहा है. भारत में आत्महत्या की दर वैसे भी ग्लोबल एवरेज से 60 प्रतिशत से भी ज्यादा है. ऐसे में हालात तो पहले ही मुश्किल थे, लेकिन कोरोना के बाद बीमारी के जिस भय और जिन आर्थिक विषमताओं का सामना लोगों को करना पड़ा है, उसने कई लोगों को हाशिए पर लाकर खड़ा कर दिया है. सर्वे के नतीजों के अनुसार कोरोना के बाद से तक़रीबन 65 प्रतिशत लोगों ने खुद को मारने के बारे में सोचा या ऐसे प्रयास किए. साथ ही तकरीबन 71 प्रतिशत लोगों में कोरोना के बाद मरने की इच्छा बढ़ी हुई पाई गई है.

Video-

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.