मोदी सरकार का पूरा होने वाला है एक साल, जनता के सामने इस तरह से रखेगी लेखा-जोखा

सभी मंत्रालयों से पिछले एक साल का लेखा जोखा मांगा गया है. बुकलेट तैयार करने की जिम्मेदारी सूचना और प्रसारण मंत्रालय को दी गई है.

मोदी सरकार का पूरा होने वाला है एक साल, जनता के सामने इस तरह से रखेगी लेखा-जोखा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: मोदी सरकार-2 का एक साल पूरा होना वाला है. 30 मई 2020 को मोदी सरकार-2 अपना एक साल पूरा कर लेगी. इस मौके पर मोदी सरकार (Modi Government) अपने एक साल के कार्यकाल की उपलब्धियों को एक बुकलेट की शक्ल में जनता के सामने रखेगी.

इसके लिए सभी मंत्रालयों से पिछले एक साल का लेखा जोखा मांगा गया है. बुकलेट तैयार करने की जिम्मेदारी सूचना और प्रसारण मंत्रालय को दी गई है.

सूचना प्रसारण मंत्रालय ने इसको अमली जामा पहनाने के लिए सभी मंत्रालयों को पत्र लिखकर उनकी उपलब्धियों को 16 मई तक भेजने को कहा है. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने 16 मई से पहले सभी मंत्रालयों से उनके एक साल की उपलब्धियों की संक्षिप्त सूची डिटेल के साथ मंगाई है.
 
मंत्रालयों को कहा गया है कि उपलब्धियों की सूची का फोकस गरीब, महिला, किसान, युवा, उद्योग और इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में उनके किए गए कामों पर होना चाहिए.

ये भी पढ़ें- उत्तरी सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों का आमना-सामना, सैनिकों को आईं चोटें

उपलब्धियों की बुकलेट की छपाई और वितरण 1 जून से पहले पूरा किया जाना है. माना जा रहा है कि पिछले एक साल की उपलब्धियों में धारा 370 हटाना, 3 तलाक, UAPA कानून जैसे फैसलों का जिक्र होगा.  

इसमें ये भी जनता को बताया जाएगा कि कैसे राम मंदिर फैसला आने के बाद देश में शांति बहाल रही. अमेरिकन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दौरे का भी जिक्र हो सकता है.

सबसे महत्वपूर्ण होगा कि कोरोना वायरस से जंग में सरकार के कामकाज का विस्तार से जिक्र होना. पहले कैसे जान बचाने का काम किया गया और फिर जहान की चिंता कर रही है सरकार. इसमें विश्व के अन्य देशों के मुकाबले भारत की तैयारियों और उसके अच्छे परिणाम की भी चर्चा होगी.

यही वजह है कि सभी मंत्रालयों से 20 अप्रैल के बाद के कामकाज, खासकर उद्योग और अन्य जरूरी सुविधाओं को जनता तक पहुंचाने में उनकी भूमिका मांगी गई है. यानी लॉकडाउन के दरम्यान किस तरह से लोगों की हिफाजत करने, उनके लिए जरूरी सुविधाओं की उपलब्धता और उनके जहान की चिंता की है मंत्रालय ने, इसका भी लेखा जोखा मांगा गया है.

सभी मंत्रालयों से अगले 2-3 महीनो में लॉकडाउन के बाद की स्थिति में शुरू की जाने वाली योजनाओं और पहल की सूची भी देने को कहा गया है. ये प्रोजेक्ट्स या तो पूरा होने की दिशा में हों, या फिर शुरू होने वाले हों, इसका स्पष्ट उल्लेख करने को कहा गया है. 

ये भी देखें-