Zee Rozgar Samachar

'तीर्थदर्शन योजना' पर संकट में पंजाब सरकार, अपनी ही नेता ने पूछ लिया तीखा सवाल

पंजाब सरकार की महत्वाकांक्षी तीर्थदर्शन परियोजना के शुरू होने के बाद सरकार में शामिल भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि सूबे के लोगों को मुफ्त तीर्थ कराने, खिलाने-पिलाने के लिए पैसा है, लेकिन बुढ़ापा, विधवा और अपाहिज पेंशन देने के लिए नहीं है।

जालंधर : पंजाब सरकार की महत्वाकांक्षी तीर्थदर्शन परियोजना के शुरू होने के बाद सरकार में शामिल भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि सूबे के लोगों को मुफ्त तीर्थ कराने, खिलाने-पिलाने के लिए पैसा है, लेकिन बुढ़ापा, विधवा और अपाहिज पेंशन देने के लिए नहीं है।

सरकार से पूछा विधवाओं का कसूर

उन्होंने सरकार से सवाल किया कि प्रदेश के बुढ़ापा, विधवा और अपाहिज पेंशन के लाभार्थियों का क्या कसूर है कि उन्हें अपने हक के लिए महीनों भटकना पड़ता है। भारतीय जनता पार्टी की पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष लक्ष्मीकांता चावला ने मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल को पत्र लिख कर कहा- 'राज्य सरकार सूबे के लोगों के लिए मुफ्त रेलगाड़ी, रोटी और रिहायश का प्रबंध कर रही है ताकि उन्हें उनके तीर्थ के दर्शन करवाए जा सकें।' 

क्या है तीर्थ यात्रा योजना

राज्य की पिछली गठबंधन सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रह चुकीं तेजतर्रार नेता लक्ष्मीकांता ने कहा, 'सरकार अगर बेसहारा लोगों को पेंशन देकर तब तीर्थयात्रा करवाती तो ज्यादा बेहतर होता और इस ठंड में उन लोगों को राहत भी मिलती।' गौरतलब है कि राज्य सरकार ने हाल ही में प्रदेश के लोगों को सरकारी खर्चे पर तीर्थयात्रा करवाने का ऐलान किया था और इस परियोजना के तहत 1 जनवरी को अमृतसर से हुजूर साहिब के लिए गाड़ी रवाना की गई थी। इस परियोजना का कुल बजट 150 करोड़ रुपये का है।

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.