close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चांद पर पहुंचकर देश ने रचा इतिहास, लेकिन इस गांव को आज तक नसीब नहीं हुआ पुल

बारिश की वजह से छोटे-छोटे नदी-नाले भी उफान पर है. चम्बा जिले की चुराह घाटी की मंगली पंचायत में लोगों का गुस्सा तब सातवें आसमान पर पहुंच गया, जब एक युवक की लकड़ी की बनी तरंगड़ी को पार करते समय मौत हो गई. 

चांद पर पहुंचकर देश ने रचा इतिहास, लेकिन इस गांव को आज तक नसीब नहीं हुआ पुल
ग्रामीणों ने कई बार पुल के निर्माण को लेकर बात की गई, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला.

चंबा, शिव कुमार: आजाद भारत को 72 साल होने जा रहे हैं, लेकिन मूलभूत सुविधाओं से देशवासी आज भी महरूम है. मामला हिमाचल प्रदेश के चंबा का है, जहां के चुराह घाटी की मंगली पंचायत में लोग पुल ना होने के कारण आज भी लकड़ी की बनी तरंगड़ी को पार कर रहे हैं, जो हादसों का कारण बनता जा रहा है. 

भारी बारिश ने जहां उत्तर भारत के लोगों को गर्मी से राहत दी है, वहीं पहाड़ के लोगों के समस्या को बढ़ा दिया है. हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में तेज बारिश का दौर जारी है. बारिश की वजह से छोटे-छोटे नदी-नाले भी उफान पर है. चम्बा जिले की चुराह घाटी की मंगली पंचायत में लोगों का गुस्सा तब सातवें आसमान पर पहुंच गया, जब एक युवक की लकड़ी की बनी तरंगड़ी को पार करते समय मौत हो गई. 

दरअसल, युवक तरंगड़ी को पार कर रहा था कि अचानक उसका पैर फिसल गया और वह उफनते नाले में जा गिरा, जिससे उसकी मौत हो गई. स्थानीय लोगों ने बताया कि हर साल बारिश में लोगों के लिए ये नाला मौत लेकर आता है. करीब आधा दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत इस में डूबने के कारण हो चुकी है. 

लाइव टीवी देखें

गांव से इस पार से उस पार जाने के लिए कोई पुल नहीं है, ग्रामीणों को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. ग्रामीणों ने बताया कि बीमार व्यक्ति को अस्पताल ले जानें के लिए भी दो बार सोचना पड़ता है. कई बार पुल के निर्माण को लेकर बात की गई, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला.

पंचायत के प्रधान का कहना है कि पिछले चार सालों वह इस पुल को बनवाने की कोशिशों में जुटे हैं. राजनैतिक लोगों के साथ संबंधित विभाग से भी बात की गई है. उन्होंने बताया कि इस पुल को लेकर (जेड बी) के तहत कुछ पैसे आये हैं. अब उसी पैसे को इसके लिए खर्च किया जाएगा. 

वहीं, पंचायत सदस्य ने बताया कि यह हमारी पंचायत का दुर्भाग्य था कि जब इस पुल का कार्य शुरू होने वाला था. इसी बीच आचार सहिंता लग गई और सारा काम ठप हो गया.