मूर्ति विसर्जन पारिस्थितिकी तंत्र को प्रदूषित करता है: कोर्ट

पानी में मूर्ति विसर्जन की प्रथा की निंदा करते हुये मद्रास उच्च न्यायालय ने गुरुवार को माना कि यह पारिस्थितिकी तंत्र को प्रदूषित करती है और यह मछली एवं चिड़ियों के लिए खतरा बन गयी है। अदालत ने इसे पानी के प्रति ‘गंवार रवैया’ करार दिया जिसे समाप्त किया जाना चाहिए। न्यायाधीश एस वैद्यनाथन ने पिछले महीने ‘विनायक चतुर्थी’ में मूर्ति विसर्जन के दौरान हुए संघर्ष तथा हत्या के प्रयास के आरोपों में गिरफ्तार किए गए दो लोगों की जमानत याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की।

मूर्ति विसर्जन पारिस्थितिकी तंत्र को प्रदूषित करता है: कोर्ट

चेन्नई: पानी में मूर्ति विसर्जन की प्रथा की निंदा करते हुये मद्रास उच्च न्यायालय ने गुरुवार को माना कि यह पारिस्थितिकी तंत्र को प्रदूषित करती है और यह मछली एवं चिड़ियों के लिए खतरा बन गयी है। अदालत ने इसे पानी के प्रति ‘गंवार रवैया’ करार दिया जिसे समाप्त किया जाना चाहिए। न्यायाधीश एस वैद्यनाथन ने पिछले महीने ‘विनायक चतुर्थी’ में मूर्ति विसर्जन के दौरान हुए संघर्ष तथा हत्या के प्रयास के आरोपों में गिरफ्तार किए गए दो लोगों की जमानत याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की।

मूर्ति बनाने के हर स्तर पर पर्यावरण कानून को लागू करने को एक अत्यंत कठिन काम मानते हुये न्यायाधीश ने सलाह दिया कि त्यौहार के दौरान मूर्तियों के विसर्जन के लिए विशिष्ट क्षेत्रों में कृत्रिम तालाबों का निर्माण किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘निश्चित रूप से जलाश्यों में प्रदूषण को समाप्त करने का यह एक कारगर तरीका होगा।’

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.