close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोलकाता: स्कूल में 4 साल की बच्ची का यौन उत्पीड़न, आरोपी टीचर हिरासत में

पुलिस अधिकारी ने बताया कि बच्ची ने पूछने पर मां को बताया कि पीटी अध्यापक उसे शौचालय में लेकर गया था, लेकिन वह यह नहीं बता पाई कि आगे क्या हुआ.

कोलकाता: स्कूल में 4 साल की बच्ची का यौन उत्पीड़न, आरोपी टीचर हिरासत में
जाधवपुर पुलिस थाने में एक शिकायत दर्ज कराने के बाद आरोपी को हिरासत में लिया गया. (फाइल फोटो)

कोलकाता: नर्सरी की चार साल की एक बच्ची का शहर के एक प्रमुख निजी स्कूल में कथित तौर पर यौन उत्पीड़न किया गया. घटना को लेकर नाराज अभिभावकों ने प्रदर्शन किया, जिसके बाद दो शिक्षकों को गिरफ्तार कर लिया गया.गौरतलब है कि स्कूल में तीन साल पहले इसी तरह की एक घटना दर्ज की गई थी. संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) विशाल गर्ग ने बताया कि जीडी बिड़ला एजुकेशन सेंटर स्कूल के शारीरिक प्रशिक्षण (पीटी) शिक्षकों को गिरफ्तार कर लिया गया है. इससे पहले उनसे पूछताछ की गई.

कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बच्ची गुरुवार (30 नवंबर) को स्कूल से लौटने के बाद से लगातार रो रही थी और बहुत दर्द होने की शिकायत कर रही थी, तभी उसकी मां ने उसके कपड़ों पर खून के धब्बे देखे. अधिकारी ने बताया कि बच्ची ने पूछने पर मां को बताया कि पीटी अध्यापक उसे शौचालय में लेकर गया था, लेकिन वह यह नहीं बता पाई कि आगे क्या हुआ.

उसके माता-पिता उसे बाल रोग विशेषज्ञ के पास लेकर गए जिसने उन्हें सलाह दी कि वे बच्ची को पुलिस के पास लेकर जाएं. बच्ची को कल देर रात (शुक्रवार) सरकारी एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती कराया गया. अस्पताल ने उसका यौन उत्पीड़न होने की पुष्टि की. जांच रिपोर्ट पुलिस को सौंप दी गई है. स्कूल के प्राचार्य एस नाथ ने बताया कि विद्यार्थियों की सुरक्षा स्कूल की शीर्ष प्राथमिकता है.

अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि बच्ची के कथित यौन उत्पीड़न की पुष्टि करने के लिए जांच की गई. रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है. इस घटना के बाद अन्य बच्चों के माता-पिता ने शुक्रवार (1 दिसंबर) को स्कूल के गेट के सामने विरोध प्रदर्शन किया और उन्होंने आरोपी अध्यापक को तत्काल निलंबित किए जाने की मांग की.

इस बीच, पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्था चटर्जी ने कहा कि वह घटना पर पूरी गंभीरता के साथ गौर कर रहे हैं. वहीं, राज्य बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष अनन्या चक्रवर्ती ने बताया कि उन्होंने स्कूल अधिकारियों से पूछा है कि पिछले तीन साल में वहां सीसीटीवी कैमरे क्यों नहीं लगाए गए.