close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चक्रवात वरदा के कल चेन्नई पहुंचने के आसार, सरकार ने तैयारी की

मौसम विभाग ने कहा है कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर सक्रिय शक्तिशाली चक्रवात वरदा के सोमवार को चेन्नई पहुंचने के आसार हैं और क्षेत्र के मछुआरों से अगले 48 घंटे तक समुद्र में नहीं जाने को कहा गया है। वहीं तटीय प्रदेश तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश इससे निपटने की तैयारी में लगे हैं।

चक्रवात वरदा के कल चेन्नई पहुंचने के आसार, सरकार ने तैयारी की
फाइल फोटो

चेन्नई/नई दिल्ली : मौसम विभाग ने कहा है कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर सक्रिय शक्तिशाली चक्रवात वरदा के सोमवार को चेन्नई पहुंचने के आसार हैं और क्षेत्र के मछुआरों से अगले 48 घंटे तक समुद्र में नहीं जाने को कहा गया है। वहीं तटीय प्रदेश तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश इससे निपटने की तैयारी में लगे हैं।

इस चक्रवात के कारण चेन्नई सहित तमिलनाडु और दक्षिणी आंध्र प्रदेश के तटीय जिलों में भारी बारिश हो सकती है।

क्षेत्रीय चक्रवात चेतावनी केंद्र के निदेशक एस बालचंद्रन ने चेन्नई में कहा कि वर्दा आज सुबह साढ़े आठ बजे चेन्नई से करीब 440 किलोमीटर दूर केंद्रित था और इसके दक्षिण दिशा में बढ़ने तथा 12 दिसंबर को दोपहर तक चेन्नई पहुंचने की उम्मीद है।

हालांकि उम्मीद जतायी गयी है कि चेन्नई पहुंचने तक इसकी तीव्रता कम हो जाएगी।

इस बीच नई दिल्ली में मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान के बारे में प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) और कैबिनेट सचिवालय को इससे अवगत कराया।

भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक के जे रमेश ने कहा, ‘मैंने व्यक्तिगत रूप से तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के मुख्य सचिवों से मुलाकात की और क्षेत्रीय मौसम विभाग दोनों प्रदेशों में आपदा प्रबंधन आयुक्तों से लगातार संपर्क में हैं।’ क्षेत्रीय मौसम केंद्र ने चेन्नई में कहा कि तूफान से तमिलनाडु के तटीय जिलों में भारी बारिश हो सकती है। दक्षिण आंध्र प्रदेश में भी भारी बारिश होने की उम्मीद है।

उसने कहा कि हवा की रफ्तार 40 से 50 किलोमीटर के बीच हो सकती है।

मौसम विभाग ने अपनी वेबसाइट पर मौसम चेतावनी में कहा कि उत्तरी तटीय तमिलनाडु, पुडुचेरी और दक्षिणी आंध्र प्रदेश में आज शाम से ही भारी बारिश होने की आशंका है।

इसमें कहा गया है कि आज रात से समुद्र की स्थिति प्रतिकूल रहने की आशंका है। चक्रवात के पहुंचने के समय लहरों के करीब एक मीटर तक उठने की आशंका जतायी गयी है।