close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केरल में 2017 में कुदरती हादसे, माकपा-संघ में टकराव और लव-जेहाद बने सुर्खियां

जून में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोच्चि मेट्रो का उद्घाटन किया. चार माह बाद इसके दूसरे चरण की शुरूआत मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने की.

केरल में 2017 में कुदरती हादसे, माकपा-संघ में टकराव और लव-जेहाद बने सुर्खियां
ओखी चक्रवात की वजह से केरल में 70 से अधिक मछुआरे मारे गए. (फाइल फोटो)

तिरुवनंतपुरम: हरियाली और कुदरती सौंदर्य से भरे केरल में वर्ष 2017 में हादसे, राजनीतिक टकराव और लव-जेहाद की खबरें चौंकाती रहीं और गुजरते साल के आखिर में आया ओखी चक्रवात राज्य को गहरा घाव दे गया. राज्य के तटीय हिस्सों में 29-30 नवंबर को ओखी चक्रवात का कहर टूटा. इस प्राकृतिक आपदा में 70 से अधिक मछुआरे मारे गए और 100 से ज्यादा का अब तक कोई पता नहीं है. चक्रवात प्रभावित मछुआरों के परिवारों के घावों पर मरहम लगाने की कोशिश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दोनों ही तटीय इलाकों के दौरे पर गए.

प्रदेश में सत्तारूढ़ माकपा नीत एलडीएफ और कांग्रेस की अगुवाई वाले यूडीएफ के राजनीतिज्ञों के बीच वाद विवाद पूरे साल चला. दोनों ने भाजपा के कथित सांप्रदायिक एजेंडा के विरोध में यात्रााएं भी निकालीं. सत्ताधारी माकपा और आरएसएस भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़पें पूरे साल चलीं. खास तौर पर राजनीतिक रूप से अस्थिर रहे कन्नूर जिले में इसका जोर अधिक रहा.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भाजपा की राज्य इकाई द्वारा आयोजित ‘जन रक्षा’ रैली में हिस्सा लिया. उन्होंने आरोप लगाया कि वाम शासन में केरल ‘जिहादी आतंक’ के लिए ‘उर्वर भूमि’ बन गया. पिनाराई विजयन की सरकार को अपने कार्यकाल के दूसरे साल यानी 2017 में दो कैबिनेट मंत्रियों के इस्तीफे स्वीकार करने पड़े. ए के शशिधरन (कांग्रेस) ने एक महिला से कथित आपत्तिजनक बातचीत के आरोप में इस्तीफा दिया. जांच आयोग ने कुछ माह बाद यह कहते हुए उन्हें बरी कर दिया कि उनके खिलाफ सबूत नहीं थे.

शशिधरन की जगह मंत्री बनाए गए थॉमस चांडी को भूमि अतिक्रमण के आरोप में इस्तीफा देना पड़ा. बहरहाल, एक मंदिर में दलित पुजारी नियुक्त करने तथा राज्य के मंदिरों का प्रबंधन करने वाले देवस्वोम बोर्ड के कार्यालयों में अगड़ी जातियों के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को नौकरी में आरक्षण देने के फैसले को लेकर एलडीएफ सरकार की सराहना भी हुई.

पुरानी रंजिश के चलते कथित तौर पर भाड़े के गुंडों से एक अभिनेत्री का अपहरण और उस पर हमला कराने की घटना भी राज्य ने देखी. फरवरी में दक्षिण भारतीय फिल्मों की अभिनेत्री के साथ हुई इस घटना के क्रम में कई उतार चढ़ाव आए. अंतत: लोकप्रिय अभिनेता दिलीप की गिरफ्तारी हुई और मलयालम फिल्म उद्योग हिल गया.

राज्य से जुड़े ‘लव जिहाद’ के एक मामले ने राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरीं जिसमें 24 वर्षीय एक हिंदू महिला हादिया ने पहले इस्लाम धर्म ग्रहण किया और फिर मुस्लिम युवक शफीन जहां से विवाह कर लिया. उच्चतम न्यायालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी को इन आरोपों की जांच करने को कहा कि कहीं यह विवाह ‘लव जिहाद’ का हिस्सा तो नहीं है.

कानून की एक दलित छात्रा की हत्या के सनसनीखेज मामले में एकमात्र आरोपी, असम के एक प्रवासी कामगार को इस साल सुनवाई अदालत ने मौत की सजा सुनाई. मलयालम फिल्म उद्योग को इस साल वरिष्ठ निर्देशक आई वी शशि की मौत से झटका लगा. इसी वर्ष मलयालम अभिनेत्री सुरभि लक्ष्मी को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री की श्रेणी में राष्ट्रीय पुरस्कार मिला. जून में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोच्चि मेट्रो का उद्घाटन किया. चार माह बाद इसके दूसरे चरण की शुरूआत मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने की.

(इनपुट एजेंसी से भी)