Zee Rozgar Samachar

Year Ender 2017: ओडिशा के लिए मिला जुला रहा यह साल, किसानों की खुदकुशी-महानदी जल विवाद छाए

बीजद सरकार ने कई कार्यक्रम शुरू किये और मुख्यमंत्री ने विभिन्न वर्गों के लिये कई कल्याण कार्यक्रमों को शुरू करने के अलावा नयी परियोजनाओं का शिलान्यास एवं शुभारंभ किया.

Year Ender 2017: ओडिशा के लिए मिला जुला रहा यह साल, किसानों की खुदकुशी-महानदी जल विवाद छाए
राज्य सरकार ने महानदी मुद्दे पर छत्तीसगढ़ का और पोलावरम मुद्दे पर आंध्र प्रदेश का पक्ष लेने का आरोप लगाया. (फाइल फोटो)

भुवनेश्वर: ओडिशा में वर्ष 2017 में पूरे साल राजनीतिक सरगर्मी, केंद्र-राज्य संबंध, किसानों की आत्महत्या और महानदी जल विवाद जैसे मुद्दे छाये रहे. राज्य में फरवरी में हुए पंचायत चुनावों में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) विजेता बनकर उभरा, लेकिन भाजपा ने भी वर्ष 2012 के पंचायत चुनावों की तुलना में इस बार अपने प्रदर्शन में जबरदस्त सुधार किया, जबकि कांग्रेस तीसरे स्थान पर रही. जिला परिषद चुनावों में भी भाजपा ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए 30 जिला परिषदों में से आठ सीटों पर जीत दर्ज की. ग्रामीण चुनावों के बाद राज्य में राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गयीं और नये साल में होने वाले निकाय चुनावों को लेकर बीजद एवं भाजपा के बीच आरोप प्रत्यारोप के दौर भी देखने को मिले, जबकि एकजुटता की कमी और आपसी मतभेदों के कारण कांग्रेस मुश्किल में दिखी.

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा कि वर्ष 2019 में जीत सुनिश्चित करने के वास्ते बीजद अपने प्रदर्शन की ‘‘बेहद गंभीरता’’ से समीक्षा करेगी जबकि केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान जैसे भाजपा नेताओं ने कहा कि ग्रामीण चुनावों के परिणाम केंद्र के सुशासन को लेकर बढ़ते समर्थन और राज्य सरकार के कुशासन के चलते जनता के बढ़ते अविश्वास को दर्शाते हैं. अप्रैल में भाजपा ने भुवनेश्वर में अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक की जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं पार्टी प्रमुख अमित शाह समेत पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया.

बीजद सरकार ने कई कार्यक्रम शुरू किये और मुख्यमंत्री ने विभिन्न वर्गों के लिये कई कल्याण कार्यक्रमों को शुरू करने के अलावा नयी परियोजनाओं का शिलान्यास एवं शुभारंभ किया. इस साल केंद्र एवं राज्य सरकार के बीच रिश्तों में खटास देखी गयी क्योंकि राज्य सरकार ने महानदी जल विवाद एवं पोलावरम परियोजना सहित कई मुद्दों पर राज्य के साथ पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाया. राज्य सरकार ने महानदी मुद्दे पर छत्तीसगढ़ का और पोलावरम मुद्दे पर आंध्र प्रदेश का पक्ष लेने का आरोप लगाया. पूरे साल बीजद ने केंद्र पर राज्य के प्रति सौतेला रुख अपनाने और कई कल्याणकारी कार्यक्रमों के लिये कोष में कटौती करने का आरोप लगाया.

पूरे साल राज्य में किसानों की आत्महत्या का मामला भी छाया रहा और विपक्षी भाजपा एवं कांग्रेस ने राज्य सरकार पर कर्ज के बोझ तले दबे, सूखा, कीटों के हमले और बेमौसम बारिश से प्रभावित किसानों की दुर्दशा सुधारने में नाकाम रहने का आरोप लगाया. राज्य सरकार ने दावा किया था कि किसानों ने अलग अलग कारणों के चलते आत्महत्या की. राज्य के अन्य हिस्सों में स्थिति में सुधार के बावजूद अब भी राज्य के कई हिस्सों में माओवाद का खतरा बना हुआ है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.