छह महीने में 34 हज़ार से ज़्यादा पर्यटकों ने कश्मीर की सैर की: गृह मंत्रालय

गृह मंत्रालय ने इसके साथ ये भी कहा है कि 5 अगस्त के बाद शुरुआत में जम्मू-कश्मीर में छात्रों की उपस्थिति कम थी, जो धीरे-धीरे बढ़ी और इस समय चल रही परीक्षाओं के दौरान छात्रों की वर्तमान उपस्थित 99.7 % है.

छह महीने में 34 हज़ार से ज़्यादा पर्यटकों ने कश्मीर की सैर की: गृह मंत्रालय
गृह मंत्रालय ने ये भी कहा है कि पत्थरबाजी को रोकने के लिए सरकार ने बहुआयामी नीति शुरू की.

नई दिल्ली: गृह मंत्रालय ने लोक सभा को दिए लिखित जवाब में कहा है कि पिछले 6 महीनों में 34,10,219 पर्यटकों ने जम्मू-कश्मीर की यात्रा की है, जिसमें 12,934 विदेशी शामिल हैं. इस दौरान पर्यटन के माध्यम से 25.12 करोड़ रुपये की आमदनी हुई है. रिपोर्ट के मुताबिक ये आंकड़े 15 मई से 15 नंवबर तक के है. गृह मंत्रालय ने इसके साथ ये भी कहा है कि 5 अगस्त के बाद शुरुआत में जम्मू-कश्मीर में छात्रों की उपस्थिति कम थी, जो धीरे-धीरे बढ़ी और इस समय चल रही परीक्षाओं के दौरान छात्रों की वर्तमान उपस्थित 99.7 % है.

5 अगस्त से 15 नवंबर 2019 तक पत्थरबाज़ी के 190 मामले दर्ज किए गए और 765 लोगों को गिरफ्तार किया गया वहीं इस साल की शुरुआत से 04 अगस्त तक पत्थरबाज़ी के 361 मामले दर्ज किए गए.

गृह मंत्रालय ने ये भी कहा है कि पत्थरबाजी को रोकने के लिए सरकार ने बहुआयामी नीति शुरू की. बड़ी संख्या में परेशानी पैदा करने वालों, भड़काने वालों, भीड़ इकट्ठा करने वालों की पहचान की गई है और उनके विरुद्ध विभिन्न एहतियाती उपाय किए गए हैं जिनमें पीएसए शामिल है.

गृह मंत्रालय के मुताबिक जांच से यह पता चला है कि कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी की घटनाओं में हुर्रियत से जुड़े विभिन्न अलगाववादी संगठन और कार्यकर्ता संलिप्त रहे हैं. NIA ने अब तक आतंकी फंडिंग के मामलों में 18 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है.

5 अगस्त से अक्टूबर 2019 के दौरान जम्मू कश्मीर में सीमा पार से नियंत्रण रेखा पर युद्ध विराम उल्लंघन की 950 घटनाएं रिपोर्ट की गई. सरकार के मुताबिक सीजफायर उल्लंघन के मामलों में सुरक्षा बलों द्वारा तत्काल और प्रभावी जवाबी कार्रवाई की जाती है. भारत अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर समझौता नहीं करेगा और भारत की सुरक्षा और क्षेत्रीय अखंडता को प्रभावित करने वाले सभी प्रयासों से निपटने के लिए निर्णय कदम उठाएगा.

ये भी देखें-: