पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाने के लिए केंद्र सरकार से बात करें फडणवीस : चिदंबरम

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने से इनकी कीमतें कम होंगी. उनको केंद्र में अपनी पार्टी की सरकार से ऐसा करने के लिए कहना चाहिए.' 

पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाने के लिए केंद्र सरकार से बात करें फडणवीस : चिदंबरम
देश में बढ़ते पेट्रोल के दामों पर चिदंबरम पहले भी केंद्र सरकार को निशाना बना चुके हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली : महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस द्वारा पेट्रोल और डीजल को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में लाने की पैरवी किए जाने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने आज कहा कि उन्हें केंद्र में अपनी पार्टी की सरकार से ऐसा करने के लिए कहना चाहिए.

सोशल मीडिया के जरिए चिदंबरम ने रखा पक्ष
पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, 'महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने से इनकी कीमतें कम होंगी. उनको केंद्र में अपनी पार्टी की सरकार से ऐसा करने के लिए कहना चाहिए.' 

 

 

 

गौरतलब है कि फडणवीस नेकहा था, 'ईंधन की कीमतें कम करने के बारे में एक कार्यबल पहले ही कोशिशें कर रहा है. यदि इन्हें (पेट्रोल एवं डीजल को) जीएसटी के दायरे में लाया जाता है तो इससे कीमतें कम हो जाएंगी. महाराष्ट्र इसके लिए पहले ही सहमति दे चुका है.' 

25 रुपये तक कम हो सकती है पेट्रोल की कीमतें
इससे पहले पी. चिदंबरम ने तेल की लगातार बढ़ती कीमतों को लेकर केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए दावा किया था कि इसकी कीमतें 25 रुपये प्रति लीटर तक कम की जा सकती हैं, लेकिन सरकार अपने फायदे के लिए कीमतें कम नहीं कर रही. चिदंबरम ने बुधवार को ट्विटर पर कहा था, "कीमतें 25 रुपये प्रति लीटर तक कम की जा सकती हैं, लेकिन सरकार ऐसा नहीं करेगी. वे पेट्रोल की कीमत एक या दो रुपये कम करके लोगों को धोखा देंगे.'

चिदंबरम ने कहा, "सरकार को पेट्रोल पर प्रति लीटर 25 रुपये का मुनाफा हो रहा है. यह पैसों पर आम उपभोक्ताओं का हक है." उन्होंने कहा, "केंद्र सरकार कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से प्रति लीटर पेट्रोल पर 15 रुपये बचा रही है और इसके अलावा वह प्रति लीटर पेट्रोल पर 10 रुपये का अतिरिक्त कर भी लगा रही है."