'पद्मावत' विरोध : धारा 144 के बाद भी गुरुग्राम में हिंसक प्रदर्शन, कई जगह आगजनी और तोड़फोड़

हरियाणा में कई दिनों से करणी सेना के समर्थक तोड़फोड़ और आगजनी कर रहे हैं. राज्य के कई शहरों में धारा-144 लागू कर दी गई थी, मगर लोगों ने कानून तोड़ते हुए सड़कों पर उतर कर फिल्म के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया.

'पद्मावत' विरोध : धारा 144 के बाद भी गुरुग्राम में हिंसक प्रदर्शन, कई जगह आगजनी और तोड़फोड़
'पद्मावत' के विरोध में गुरुग्राम में कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन किए जा रहे हैं (फोटो-ANI)

नई दिल्ली : संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म 'पद्मावत' कल 25 जनवरी को रिलीज हो रही है. इस फिल्म के प्रदर्शन के खिलाफ देशभर में विरोध-प्रदर्शन तेज हो गए हैं. हरियाणा में कई दिनों से करणी सेना के समर्थक तोड़फोड़ और आगजनी कर रहे हैं. हिंसक प्रदर्शनों को देखते हुए राज्य के कई शहरों में धारा-144 लागू कर दी गई थी, मगर आज बुधवार को लोगों ने कानून तोड़ते हुए सड़कों पर उतर कर फिल्म के प्रदर्शन के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया.

लोगों की भीड़ ने गुरुग्राम के वजीरपुर-पटौदी रोड पर टायरों में आग लगा दी और रास्ता जाम कर दिया. इसके अलावा एक अन्य भीड़ ने गुरुग्राम में ही दिल्ली-जयपुर हाईवे पर जाम लगा दिया. प्रदर्शनकारी फिल्म के निर्माता-निर्देशक और कलाकारों के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे. हालांकि मौके पर पहुंची पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर कर दिया. उधर, उत्तर प्रदेश के मथुरा और लखनऊ में भी लोगों ने विरोध-प्रदर्शन किया. राज्य सरकारों ने सिनेमा घरों की सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है.

गुरुग्राम में निषेधाज्ञा
संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत के 25 जनवरी को रिलीज से पहले राजपूत करणी सेना की धमकी के मद्देनजर गुड़गांव में रविवार तक निषेधाज्ञा लगा दी गई थी. करणी सेना ने फिल्म की स्क्रीनिंग कर रहे सिनेमाघरों को निशाना बनाने की धमकी दी है. फिल्म का विरोध कर रहे संगठनों में सबसे मुखर करणी सेना का आरोप है कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की गई है. गुड़गांव में 40 से ज्यादा सिनेमाघर और मल्टीप्लेक्स हैं. गुड़गांव में डिप्टी कमिश्नर विनय प्रताप सिंह ने कहा, ‘‘कानून व्यवस्था में गड़बड़ी की आशंका के मद्देनजर धारा 144 लगाई है.’’ 25 जनवरी को फिल्म पद्मावत रिलीज हो रही है. सिंह ने कहा कि निषेधाज्ञा लागू होने के बाद 23 जनवरी से 28 जनवरी तक सिनेमाघरों के 200 मीटर के दायरे में अग्नेयास्त्र या दूसरे हथियारों के साथ लोगों की मौजूदगी, नारेबाजी या तख्तियां दिखाने पर पाबंदी रहेगी. 

गुजरात मल्‍टीप्‍लेक्‍स एसोसिएशन का ऐलान, 'पूरे राज्‍य में नहीं दिखाएंगे 'पद्मावत'

कई दिनों से उत्पात
बता दें कि शुरू से ही विवादों में रही फिल्म 'पद्मावत' को काटछांट के बाद फिर से प्रदर्शन के लिए तैयार किया गया है, बावजूद इसके करणी सेना और अन्य संगठनों द्वारा इस फिल्म का विरोध जारी है. रविवार और सोमवार को हरियाणा में फिल्म के प्रदर्शऩ को लेकर कई स्थानों पर तोड़फोड़ और आगजनी की गई. कुरुक्षेत्र के एक मॉल में उपद्रवियों ने जमकर तोड़फोड़ की और कई स्थानों पर आग लगा दी. गुरुग्राम के सोहना रोड स्थित रहेजा मॉल के एक सिनेमा घर में भी बीती रात एक भीड़ ने जमकर उत्पात मचाया. यहां फूड कॉर्नर, टिकट काउंटर में तोड़फोड़ की. 

Padmaavat
पद्मापत के खिलाफ दिल्ली-जयपुर हाईवे पर हंगामा करते करणी सेना के कार्यकर्ता

फरीदाबाद के बल्लभगढ़ के एक मॉल में कुछ युवाओं ने टिकट काउंटर को आग के हवाले कर दिया और इसका लाइव वीडियो भी बनाया. पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ FIR दर्ज किया है और रिपोर्ट्स के मुताबिक ये लोग मुंह पर कपड़ा बांध कर मॉल में घुसे थे और मॉल में इन लोगों ने बॉक्स ऑफिस के टिकट काउंटर को आग के हवाले कर दिया. इन लोगों के खिलाफ यह केस धारा 436 के तहत दर्ज किया गया और अब पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.

Padmaavat
गुरुग्राम के पटौदी-वजीरपुर मार्ग पर टायर जलाते हुए प्रदर्शनकारी फोटो- ANI

गुजरात में उपद्रव 
मंगलवार को गुजरात के अहमदाबाद में प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने मेमनगर और थलतेज के एक मॉल और उसके आसपास की दुकानों में तोड़फोड़ और आगजनी की. मॉल के मैनेजर राकेश मेहता ने कहा कि हमने बोर्ड लगाया था कि हम फिल्म नहीं दिखाएंगे, लेकिन फिर भी कुछ लोगों ने मॉल पर हमला कर दिया.