close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान ने पुंछ में मोर्टार दागे, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब

भारतीय सेना ने मंगलवार की रात को सीमापार से गोलीबारी का करारा जवाब देते हुए नियंत्रण रेखा पर पांच पाकिस्तानी चौकियां नष्ट कर दी थीं.

पाकिस्तान ने पुंछ में मोर्टार दागे, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब
फाइल फोटो

जम्मू: पाकिस्तान की सेना ने बुधवार को लगातार छठे दिन संघर्ष विराम का उल्लंघन किया तथा जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की एवं भारी मोर्टार दागे. भारतीय सेना ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया. अधिकारियों ने बताया कि भारतीय सेना ने मंगलवार की रात को सीमापार से गोलीबारी का करारा जवाब देते हुए नियंत्रण रेखा पर पांच पाकिस्तानी चौकियां नष्ट कर दी थीं जिससे कई पाक सैनिक हताहत हुए थे. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की भारी गोलाबारी में पांच जवान घायल हुए.

अधिकारियों के अनुसार बुधवार को पाकिस्तानी सैनिकों ने पुंछ जिले में शाम सात बजे मेंढर, बालाकोट और कृष्णाघाटी उप सेक्टरों में अग्रिम चौकियों और नागरिक बस्तियों पर भारी मोर्टार गोलाबारी की और छोटे हथियारों से भी गोलियां चलायीं. भारतीय सैनिकों ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया. मंगलवार को जम्मू, राजौरी और पुंछ जिलों के अधिकतर क्षेत्रों में नियंत्रण रेखा पर रात भर भारी गोलाबारी एवं गोलीबारी हुई. पाकिस्तानी सैनिक नागरिकों के मकानों से मोर्टार और मिसाइलें दागते नजर आए. वे ग्रामीणों को मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल कर रहे थे. पाकिस्तानी सेना ने भारी हथियारों का इस्तेमाल किया तथा नागरिकों के मकानों पर 120 एमएम मोर्टार दागे.

राजौरी और पुंछ जिलों में बुधवार को नियंत्रण रेखा के पांच किलोमीटर के दायरे में सभी स्कूल एवं शैक्षणिक संस्थान बंद रहे. प्रशासन ने इन दोनों जिलों में बृहस्पतिवार को भी नियंत्रण रेखा के पांच किलोमीटर के दायरे में शैक्षणिक संस्थान अस्थायी रूप से बंद रखने का आदेश दिया है. प्रशासन ने पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी की आशंका से सीमा के आसपास रहने वालों से घरों में ही रहने और बाहर नहीं घूमने को कहा है. पुलवामा आतंकवादी हमले और भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान के अंदर जैश ए मोहम्मद के कैंप पर हमले के बाद दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव के बीच नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर लोग भय के साये में हैं.

(इनपुट भाषा से)