पाकिस्तान: अदालत ने हिंदू बलात्कार पीड़िता को पुलिस सुरक्षा का दिया आदेश

पाकिस्तान के दक्षिणी सिंध प्रांत की अदालत ने पुलिस को एक हिंदू बलात्कार पीड़िता को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है. 

पाकिस्तान: अदालत ने हिंदू बलात्कार पीड़िता को पुलिस सुरक्षा का दिया आदेश
एसपी ने अदालत को बताया कि संबंधित थाना प्रभारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के दक्षिणी सिंध प्रांत की अदालत ने पुलिस को एक हिंदू बलात्कार पीड़िता को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है. मीडिया रिपोर्ट में आज यह जानकारी दी गई. एक प्रभावशाली परिवार के एक व्यक्ति पर पिछले महीने महिला का बलात्कार करने का आरोप है. सिंध उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश अहमद अली एम शेख ने उमेरकोट जिले के कुर्नी इलाके में हुए कथित बलात्कार का स्वत: संज्ञान लेने के बाद यह आदेश जारी किया. ‘डॉन’ ने कहा कि मुख्य न्यायाधीश ने मीरपुरखास के उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) और उमेरकोट के पुलिस अधीक्षक (एसपी) को पीड़िता एवं उसके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया.

उसने कहा कि उन्होंने पुलिस को प्रभावशाली परिवार से संबंधित आरोपी के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश दिया. उमेरकोट के पुलिस अधीक्षक इजाज बाजवा ने  अदालत के समक्ष एक रिपोर्ट दायर की जिसमें कहा गया है कि मीरपुरखास के उपमहानिरीक्षक ने अपने निरीक्षण में एक समिति का गठन किया है. समिति को घटना की निष्पक्ष जांच करने का काम सौंपा गया है. 

यह भी पढ़ें- भतीजी को किया किडनैप और कराया जबरन धर्म परिवर्तन, चाचा की पाकिस्तानी सरकार से भावुक अपील

कुर्नी के उपमंडलीय पुलिस अधिकारी और नबीसर के थाना प्रभारी इस समिति के सदस्य हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि पीड़िता एक किसान की बेटी है.  उसकी चिकित्सकीय जांच कुर्नी तालुका अस्पताल में कराई गई है और डीएनए जांच के लिए नमूने भी एकत्र कर लिए गए हैं. इसमें कहा गया है कि चिकित्सकीय रिपोर्टों में इस बात की पुष्टि हुई है कि पीड़िता का यौन उत्पीड़न किया गया और इस मामले में जांच जारी है.

एसपी ने अदालत को बताया कि संबंधित थाना प्रभारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. इससे पहले पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग ने कहा था कि दक्षिणी सिंध प्रांत में हर माह औसतन 20 से 25 हिंदू लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन कराकर उन्हें मुस्लिम बनाया जाता है.