SGPC ने करतारपुर साहिब तक सीमा गलियारा बनाने की पेशकश की

एसजीपीसी ने करतारपुर साहिब गुरुद्वारे तक सीमा गलियारा निर्माण निशुल्क कराने की पेशकश की है.

SGPC ने करतारपुर साहिब तक सीमा गलियारा बनाने की पेशकश की
(फोटो साभार सोशल मीडिया)

अमृतसर: पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को दावा किया कि पाकिस्तान ने सिख श्रद्धालुओं के लिए करतारपुर साहिब गुरुद्वारे तक सीमा गलियारा बनाने को मंजूरी देने का निर्णय किया है, जिसके कुछ ही देर में एसजीपीसी ने इसका निर्माण निशुल्क कराने की पेशकश की. एसजीपीसी के अध्यक्ष गोविंद सिंह लोगोंवाल ने गलियारा निर्माण की पेशकश की जिसमें रावी पर पुल निर्माण भी शामिल है. लोगोंवाल ने सिद्धू के दावे के कुछ ही देर बाद यह पेशकश की. उन्होंने कहा कि गुरुद्वारा करतारपुर साहिब तक गलियारे का अर्थ रावी पर पुल निर्माण भी है जिससे श्रद्धालु आसानी से वहां तक जा सकें.

पाकिस्तान की ओर से करतारपुर कॉरिडोर खोलने पर पंजाब कैबिनेट के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि मेरे दोस्त इमरान खान ने मेरा जीवन सफल कर दिया. लाखों सिख श्रद्धालुओं की इच्छा पूरी हो रही है, राजनीति को गुरुघर से अलग कर दो. सिद्धू ने सभी लोगों को फैसले के लिए बधाई दी और कहा कि इस फैसले से फासले कम होंगे. लोगों की अपील बाबा ने सुनी है. इसका झप्पी से कोई सरोकार नहीं ये बाबा की कृपा है. 

जानिए नवजोत सिंह सिद्धू ने क्यों कहा- 'पाकिस्तान के आगे नतमस्तक हूं'

सिख धर्म के संस्थापक गुरुनानक की 550वीं पुण्यतिथि पर साल 2019 में खोला जाएगा. 22 सितंबर, 1539 को गुरुनानक की मृत्यु करतारपुर में ही हुई थी. करतारपुर में ही गुरुनानक साहब का समाधि स्थल है, जिसे करतारपुर साहिब के नाम से जाना जाता है. 

(इनपुट-भाषा)