close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मनोहर पर्रिकर की अंतिम विदाई, रो पड़ीं स्मृति ईरानी

मनोहर पर्रिकर को को आखिरी विदाई देते हुए वह खुद को रोक नहीं पाईं और भावुक हो गईं.

मनोहर पर्रिकर की अंतिम विदाई, रो पड़ीं स्मृति ईरानी
फोटो साभारः ANI

नई दिल्ली: गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को अंतिम विदाई देने पहुंची केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भावुक हो गईं. वह इस दुख की घड़ी में खुद को रोक न सकी और रोने उनके आंसू फूट पड़े. दिवंगत सीएम मनोहर पर्रिकर को अंतिम विदाई देने के लिए देश के कई और दिग्गज नेता भी पहुंचे हैं. पीएम मोदी, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और राज्यपाल मृदुला सिन्हा दिवंगत ने सीएम पर्रिकर को श्रद्धांजलि दी और उनके परिजनों से मुलाकात की. रविवार शाम को परिकर का निधन हो गया था. उन्हें ईरानी ने ट्वीट करके भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी थी.

ईरानी ने ट्विटर पर लिखा था, 'एक नेता, एक परामर्शदाता, एक दोस्त- परिकर सर यह सबकुछ थे और वह मेरे लिए परिवार से ज्यादा थे. लेकिन गोवा का हर व्यक्ति इस बात को कह सकता है कि परिकर ऐसे ही शख्स थे. उन्होंने सिखाया कि मुश्किल समय में भी कैसे गरिमा बनाई रखी जाए.' उन्होंने आगे लिखा, 'मनोहर परिकर अपने पीछे बहुत से प्रशंसक छोड़ गए हैं जो उन्हें अपना आदर्श मानते हैं. उनके प्रियजनों, साथियों और समर्थकों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं. ओम शांति.' 

पर्रिकर के अंतिम दर्शन के लिए पणजी की सड़कों पर उमड़ा जन सैलाब
 गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के अंतिम दर्शन के लिए राजधानी पणजी की सड़कों पर सोमवार को हजारों की संख्या में लोग उमड़ पड़े. पर्रिकर का अग्नाशय की बीमारी के कारण रविवार शाम को निधन हो गया था. 
पर्रिकर का पूर्ण सैन्य एवं राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार यहां मिरामार बीच पर किया जाएगा.

पर्रिकर का पार्थिव शरीर यहां भाजपा कार्यालय में लाया गया ताकि पार्टी कार्यकर्ता उन्हें अंतिम विदाई दे सकें .  तिरंगे में लिपटा पर्रिकर का पार्थिव शरीर जब भाजपा कार्यालय में लाया गया तो वहां माहौल गमगीन हो गया और उनके सैकड़ों समर्थकों की आंखें नम हो गईं.  पर्रिकर का पार्थिव शरीर लेकर आ रहे ट्रक ने पणजी के डोना पौला में उनके निजी आवास से पांच किलोमीटर की दूरी तय की. इस छोटे से तटीय राज्य से देश के रक्षा मंत्री बने पर्रिकर के पार्थिव शरीर के दर्शन करने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा.

सोमवार सुबह पर्रिकर का पार्थिव शरीर भाजपा कार्यालय लाया गया जहां लोग अपने नेता को अंतिम विदाई के देने के लिए उमड़ पड़े. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी समेत अन्य ने केंद्रीय मंत्रिमंडल के अपने पूर्व साथी को अंतिम श्रद्धांजलि दी. गडकरी कल रात ही यहां आ गए थे. पर्रिकर को अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए कला अकादमी में जनसैलाब उमड़ पड़ा. गोवा और दमन के आर्कबिशप फादर फिल्पे नेरी फराओ और डाइआसिसन सोसाइटी ऑफ गोवा के सचिव फादर जेफिरिनो डिसूजा भी श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे.

दाऊदी बोहरा समुदाय के सदस्य भी अकादमी के बाहर कतार में लगे रहे. गोवा की प्रदेश इकाई ने आयोजन स्थल पर बड़ा सा होर्डिंग लगाया है जिसमें पर्रिकर की एक तस्वीर है. इस तस्वीर में वह मुस्कुराते हुए नजर आते हैं. मापुसा और पणजी सहित अधिकतर बाजार सुबह से ही बंद है. पर्रिकर की अंतिम यात्रा शाम चार बजे के बाद शुरू होगी और अंतिम संस्कार शाम पांच बजे किया जाएगा.

पार्टी सूत्रों ने बताया कि पर्रिकर के अंतिम संस्कार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के शीर्ष नेताओं के आने की संभावना है. एक अधिकारी ने बताया कि पर्रिकर का पूर्ण सैन्य एवं राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करने को कहा गया है.