Gujarat: हड़प्पा काल का शहर Dholavira विश्व धरोहर में शामिल, जानें इसकी खासियत

नई दिल्ली: तेलंगाना के 13वीं सदी के रामप्पा मंदिर (Ramappa Temple) को यूनेस्को की ओर से वर्ल्ड हेरिटेज साइट का दर्जा मिलने के बाद अब भारत की एक और धरोहर को सम्मान मिला है. यूनेस्को (UNESCO) ने गुजरात में स्थित धोलावीरा (Dholavira) को भी वर्ल्ड हेरिटेज साइट (World Heritage Site) घोषित कर दिया है. आइए जानते हैं धोलावीरा के बारे में सबकुछ...  

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Jul 27, 2021, 17:22 PM IST
1/6

दुनियाभर में इसलिए प्रसिद्ध है धोलावीरा

Dholavira is famous in the world for harappan Civilization

धोलावीरा गुजरात के कच्छ जिले की भचाऊ तालुका के खदिरबेट में स्थित है. यह एक ऐतिहासिक स्थान है, जो लगभग पांच हजार साल पहले विश्व का प्राचीन और व्यस्त महानगर था. 

 

2/6

हड़प्पा और सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेष

Remains of Harappa and Indus Valley Civilization in Dholavira

धोलावीरा में हड़प्पा सभ्यता के अवशेष पाए जाते हैं, जो दुनियाभर में अपनी अनूठी विरासत के तौर पर मशहूर हैं. यह स्थल कच्छ के रण में स्थित नमक के विशाल मैदानों से घिरा है और इसमें प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता के खंडहर भी शामिल हैं.

3/6

धोलावीरा ने इन शहरों को पछाड़ा

Harappan era city Dholavira gets World heritage tag

इस लिस्ट में शामिल होने की रेस में धोलावीरा के साथ ईरान से हवारामन, जापान से जोमोन (Jomon), जॉर्डन से एस-साल्ट (As-Salt) और फ्रांस से नाइस (Nice) शामिल थे. 

4/6

यूनेस्को ने यूं दी बधाई

UNESCO lists Dholavira as world heritage site

संयुक्त राष्ट्र शैक्षणिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) ने ट्वीट किया, ‘धोलावीरा : भारत में, हड़प्पाकालीन शहर को विश्व धरोहर सूची में अभी-अभी शामिल किया गया. बधाई हो!’

5/6

गुजरात में 4 विश्व धरोहर

Four world heritage sites in Gujarat now

गुजरात में अब तक तीन विश्व धरोहर स्थल थे, जिनमें पावागढ़ के निकट चंपानेर, पाटन में रानी की वाव और एतिहासिक शहर अहमदाबाद शामिल हैं. इस लिस्ट में धोलावीरा चौथा स्थल बन गया है. 

6/6

गुजरात के लिए गर्व का दिन

Minister G kishan reddy congratulates Nation and Gujarat

इस मौके पर संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने एक ट्वीट में कहा, 'मुझे भारतवासियों से यह साझा करते हुए अपार हर्ष हो रहा है कि अब धोलावीरा के रूप में यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची भारत का 40वां स्थल शामिल हो गया है.' उन्होंने कहा कि आज भारत के लिए, विशेष रूप से गुजरात के लिए गर्व का दिन है. उन्होंने कहा, ‘2014 से विश्व धरोहर सूची में भारत के 10 नए स्थान शामिल किए गए हैं जो हमारे ऐसे स्थलों का एक चौथाई हिस्सा है....’