रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गार्ड ऑफ ऑनर देकर किया अमेरिकी रक्षा मंत्री का स्वागत

भारत और अमेरिका के बीच होने वाली 2+2 वार्ता में हिस्सा लेने के लिए अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर आज दिल्ली पहुंच गए हैं.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Oct 26, 2020, 17:54 PM IST

नई दिल्ली: भारत और अमेरिका के बीच होने वाली 2+2 वार्ता में हिस्सा लेने के लिए अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर (Mark Esper) आज दिल्ली (Delhi) पहुंच गए हैं. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh)  ने गार्ड ऑफ ऑनर देते हुए अमेरिकी रक्षा मंत्री का स्वागत किया है. इस दौरान की कुछ तस्वीरें भी सामने आई हैं जिसमें दोनों देशों के रक्षा मंत्री हाथ मिलाते हुए नजर आ रहे हैं.

1/5

26 और 27 अक्टूबर को दिल्ली में होगी बैठक

भारत-चीन विवाद और अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से एक हफ्ते होने वाली इस बैठक को दोनों देशों के लिए काफी अहम माना जा रहा है. वार्ता में चीन और पाकिस्तान के मुद्दे पर अहम चर्चा होने की संभावना है. यह बैठक 26 और 27 अक्टूबर को दिल्ली में होगी. वार्ता में भारत का प्रतिनिधित्व विदेश मंत्री एस जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे.

2/5

वार्ता में ये मुद्दा होगा अहम

मंत्री स्तरीय वार्ता का नया ढांचा, दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी के लिए आगे की ओर सोच रखने वाली दूरदृष्टि मुहैया करने को लेकर आरंभ किया गया. वार्ता के तीसरे संस्करण में दोनों पक्षों के हिंद-प्रशांत क्षेत्र और भारत के पड़ोस के क्षेत्र के अलावा अहम द्विपक्षीय मुद्दों पर पर चर्चा होने की उम्मीद है.

3/5

दोनों देशों के बीच हो सकते हैं ये समझौते

इस मुलाकात में भारत और अमेरिका के बीच बेसिक एक्सचेंज एंड कोबॉपरेशन एग्रीमेंट के तहत कुछ समझौते होगें. इनमें क्षेत्रीय सुरक्षा सहयोग, रक्षा सूचना साझा करने, सैन्य बातचीत और रक्षा व्यापार के समझौते शामिल हैं. इस समझौते से भारत को अमेरिका की ओर से सटीक जियोस्पेशियल डेटा मिलेगा, जिसका इस्तेमाल मिलिट्री ऑपरेशंस में काफी कारगर साबित होगा.

4/5

इससे पहले कब-कब हुई वार्ता?

बताते चलें कि प्रथम ‘टू-प्लस-टू’ वार्ता सितंबर 2018 में दिल्ली में हुई थी, जिसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस तंत्र को मंजूरी दी थी. वार्ता का दूसरा संस्करण पिछले साल दिसंबर में वाशिंगटन में हुआ था.

5/5

वार्ता से चीन को लगी मिर्ची

भारत और अमेरिका के बीच होने वाली 2+2 मंत्री स्तरीय बैठक से चीन को मिर्ची लगी है. चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि माइक पॉम्पियो अपनी यात्राओं के जरिए 'चीन-विरोधी संयुक्त मोर्चा' बनाने की कोशिश कर रहे हैं.