डोकलाम और चीन-पाक कोरिडोर पर चीन से सीधे शब्दों में बात करें पीएम मोदी : कांग्रेस

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि देश मोदी को डोकलाम और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कोरिडोर (सीपीईसी) जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर सुनना चाहता है.

डोकलाम और चीन-पाक कोरिडोर पर चीन से सीधे शब्दों में बात करें पीएम मोदी : कांग्रेस

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच शुक्रवार हुई द्विपक्षीय मुलाकात के बाद कांग्रेस ने कहा कि डोकलाम में चीनी अतिक्रमण और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कोरिडोर (सीपीईसी) से भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा एवं सामरिक हित को खतरा है. पार्टी ने कहा कि ऐसे में इन मुद्दों को लेकर मोदी को चीन से दो टूक बात करनी चाहिए. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि देश मोदी को डोकलाम और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कोरिडोर जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर सुनना चाहता है.

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शी चिनफिंग से द्विपक्षीय मुलाकात की. हमने उनको हाथ मिलाते और गले मिलते हुए देखा. सवाल यह है कि जब भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा और सामरिक हित खतरे में है तो क्या मोदी जी चीन के साथ इन मुद्दों को उठाने का साहस दिखाएंगे? 

उन्होंने कहा, ‘‘हम प्रधानमंत्री से पूछना चाहते हैं कि क्या डोकलाम में चीन और भारत के बीच 73 दिनों का गतिरोध नहीं था? चीन ने डोकलाम पठार के उस हिस्से पर फिर से कब्जा कर लिया है. वह बंकर बना रहा है. सेना की चौकियों से कुछ मीटर की दूरी पर निर्माण कार्य कर रहा है. वह डोकलाम के दक्षिण से होते हुए नयी सड़क का निर्माण कर रहा है और इस तरह से वह 'चिकेन नेक'- सिलीगुड़ी कॉरिडोर में घुसपैठ कर रहा है.’ 

यह भी पढ़ें- PM मोदी ने शी जिनपिंग को भारत आने का दिया न्योता, 2019 शिखर बैठक की पेशकश

सुरजेवाला ने कहा कि चीन-पाकिस्तान कोरिडोर पीओके से होकर गुजरता है. पीओके भारत का अभिन्न हिस्सा है. यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा है और इससे भारत के सामरिक हितों के लिए खतरा पैदा होता है. प्रधानमंत्री आंख में आंख डालकर बात नहीं कर सकते तो कम से इन मुद्दों पर चीन से दो टूक बात करें. राष्ट्रीय हित में प्रधानमंत्री जो कभी कदम उठाएंगे, कांग्रेस उनके साथ है.

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण अपने हालिया चीन दौरे पर डोकलाम में चीनी अतिक्रमण के मुद्दे पर वहां की सरकार से विरोध दर्ज कराने में विफल रहीं. उन्होंने सवाल किया कि क्या प्रधानमंत्री अपने मंत्रियों की इस 'विफलता' को स्वीकार करेंगे और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से डोकलाम के मुद्दे पर दो टूक बातें करेंगे? 

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि देश मोदी को डोकलाम और चीन-पाकिस्तान आर्थिक कोरिडोर (सीपीईसी) जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर सुनना चाहता है.

राहुल ने ट्वीट कर कहा, 'प्रिय प्रधानमंत्री, मैंने आपकी बिना एजेंडा वाली चीन यात्रा का सीधा टीवी प्रसारण देखा. आप तनाव में लग रहे थे.' 
उन्होंने कहा, 'आपको मैं कुछ याद दिलाता हूं. पहला मुद्दा डोकलाम का है और सीईपीसी का है. सीपीईसी पीओके से गुजर रहा है जो भारत का हिस्सा है. भारत आपको इन महत्वपूर्ण मुद्दों पर सुनना चाहता है. हमारा समर्थन आपके साथ है.'