close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BJP के प्रचंड बहुमत के बाद इमरान खान ने फोन करके दी बधाई, पीएम मोदी ने कही ये बड़ी बात

 पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात करके जीत की बधाई दी

BJP के प्रचंड बहुमत के बाद इमरान खान ने फोन करके दी बधाई, पीएम मोदी ने कही ये बड़ी बात
.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात करके जीत की बधाई दी. इमरान ने पीएम मोदी से दोनों देशों के लोगों की बेहतरी के लिए मिलकर काम करने की इच्छा व्यक्त की. विदेश मंत्रालय से मिली जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी सरकार की पड़ोसी पहले की नीति को याद करते हुए पाक पीएम को संयुक्त रूप से गरीबी से लड़ने के लिए अपने पहले के सुझाव का जिक्र किया. इमरान खान से टेलीफोन वार्ता में प्रधानमंत्री मोदी ने जोर देकर कहा कि क्षेत्र में शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए सहयोग को बढ़ावा देने के लिए विश्वास और हिंसा से मुक्त वातावरण बनाना जरूरी था.

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने ट्वीट किया कि खान ने मोदी को लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी की जीत पर बधाई भी दी. उन्होंने कहा कि दक्षिण एशिया में शांति, प्रगति और समृद्धि के लिए अपनी इच्छा दोहराते हुए खान ने कहा कि वे इन उद्देश्यों को आगे ले जाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के साथ मिलकर काम करने के प्रति आशान्वित हैं. फैसल ने कहा कि खान ने इच्छा जताई कि अपने लोगों की बेहतरी के लिए दोनों देश मिलकर काम करें. 

अप्रैल में भी किया था इसका जिक्र
खान ने अप्रैल में कहा था कि उन्हें विश्वास है कि अगर आम चुनाव में मोदी जीतते हैं तो भारत के साथ शांति वार्ता करने तथा कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए बेहतर अवसर मिल सकता है. भारत में आम चुनाव के नतीजे पाकिस्तान के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि नयी दिल्ली में नयी सरकार भारत-पाकिस्तान के संबंधों के भविष्य की दिशा पर विचार करेगी. पुलवामा आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के संबंधों में दरार और बढ़ गयी थी.

चुनाव परिणामों की घोषणा से एक दिन पहले ही कुरैशी और भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को किर्गिस्तान के बिश्केक में शंघाई सहयोग संगठन परिषद के विदेश मंत्रियों की बैठक में एक दूसरे का हालचाल पूछा था. कुरैशी ने स्वराज को संवाद के माध्यम से सभी मुद्दों के समाधान की पाकिस्तान की इच्छा से अवगत कराया था.