OLX पर मोबाइल बेचने वालों को पति-पत्नी इस तरह लगाते थे चूना, तरीका जानकर उड़ जाएंगे होश!

दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे पति पत्नी को गिरफ्तार किया है, जो उन लोगों को शिकार बनाते थे जो अपने महंगे मोबाइल फोन OLX जैसी साइट के जरिये बेचना चाहते थे.

OLX पर मोबाइल बेचने वालों को पति-पत्नी इस तरह लगाते थे चूना, तरीका जानकर उड़ जाएंगे होश!
(पुलिस के शिकंजे में आए आरोपी)

नई दिल्ली : अगर आप भी ओएलएक्स या उस जैसी साईट पर जाकर अपना पुराना सामान बेच या खरीदते है तो ये खबर जानना आपके लिए बेहद जरूरी है. क्योंकि दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे पति पत्नी को गिरफ्तार किया है, जो उन लोगों को शिकार बनाते थे जो अपने महंगे मोबाइल फोन OLX जैसी साइट के जरिये बेचना चाहते थे. विक्रम गुप्ता और ममता नाम की दंपति मोबाइल बेचने वाले से फोन पर संपर्क करती और मोबाइल खरीदने के लिए किसी जगह मिलने के लिए बुलाती, या फिर खुद उनके घर चले जाते.

हैरान कर देने वाला है तरीका
दिल्ली के ये बंटी-बबली सबसे पहले अपने शिकार से उसका मोबाइल फ़ोन, बिल और पैकिंग का डिब्बा लेते, फिर दोनों अपने शिकार से उसका बैंक एकाउंट नम्बर और बैंक का नाम और तय कीमत पूछकर अपने मोबाइल से ऑनलाइन पेमंट करने का नाटक करते थे. उसी दौरान मोबाइल बेचने वाले के फोन पर बैंक की तरफ से एक मैसेज आता था कि उसके एकाउंट में इतने पैसे ट्रांसफर हुए है. जिसके बाद मोबाइल बेचने वालों को यकीन हो जाता था कि खरीदार ने उसके एकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर दिए है. इसके बाद दोनों पति-पत्नी मोबाइल लेकर बड़े आराम से निकल जाते थे. मोबाइल बेचने वाले को जबतक ठगी का पता चलता तब तक काफी देर हो चुकी होती थी. 

साथी आरोपी फरार 
दरअसल पुलिस की गिरफ्त में आये इस पति-पत्नी ने बताया कि इस तरह इन्होने कई वारदातों को अंजाम दिया है. लेकिन ज्यादार मामलों में ठगे जाने वाला इंसान पुलिस में एफआईआर दर्ज नहीं कराता था. दोनों ने पुलिस को बताया कि जब ये मोबाइल बेचने वाले से उसका एकाउंट नम्बर, बैंक डिटेल्स लेते है तो वो मैसेज ये जोड़ा अपने तीसरे साथी सनी शर्मा को भेज देता था, फिर सनी उस मोबाइल नंबर पर एक सॉफ्टवेयर के द्वारा बैंक का एक फ़र्ज़ी मैसेज भेज देता था जिसके बाद बेचने वाले को पैसे ट्रांसफर होने का भरोसा हो जाता था. सनी शर्मा फिलहाल फ़रार है और पुलिस उसकी तलाश कर रही है.

इस तरह कसा शिंकजा 
कुछ इसी तरह 6 फरवरी को पति पत्नी की इस जोड़ी ने नेहा नाम की एक लड़की को नेहरू प्लेस मैट्रो स्टेशन पर मोबाइल बेचने के नाम पर चूना लगाया था, जिसके बाद शिकायत मिलने पर दिल्ली पुलिस की मैट्रो यूनिट के डीसीपी जितेंद्र मणि ने एक टीम बनाई जिसमें सब इंस्पेक्टर वीरेंद्र, असिस्टेंट सब इंपेक्टर लखविन्दर सिंह, हेड कॉन्स्टेबल, शक्ति सिंह, राजेश शर्मा, भूपिंदर और कॉन्स्टेबल मनोज को शामिल किया गया. टीम ने सबसे पहले नेहरू प्लेस मैट्रो स्टेशन की सीसीटीवी फुटेज खंगाली और दोनों पति पत्नी की पहचान की फिर इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस के जरिए दोनों के मोती नगर स्थित सुदर्शन पार्क इलाके में रहने का पता लगाया था. पुलिस के मुताबिक 38 साल का विकास गुप्ता सिर्फ दसवीं पास है जबकि 30 साल की ममता बीए पास है और ज्यादातर वो ही अपने शिकार के साथ मीठी मीठी बाते करके उसको विश्वास में लेती थी.