close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देश के सबसे गरीब उम्मीदवारों में ये अभिनेता शामिल, खुद को बताया 1 हजार का मालिक

हलफनामे के मुताबिक उनके पास निजी मिल्कियत का न तो कोई वाहन है, न ही जेवरात. उनके पास खेत, मकान और जमीन जैसी एक भी अचल संपत्ति नहीं है.

देश के सबसे गरीब उम्मीदवारों में ये अभिनेता शामिल, खुद को बताया 1 हजार का मालिक

इंदौर: अगर उनके चुनावी हलफनामे पर यकीन किया जाये, तो हिन्दी फिल्मों और टीवी विज्ञापनों में छोटे-मोटे रोल निभा चुके जानी करण मौजूदा लोकसभा चुनावों में देश के सबसे गरीब उम्मीदवारों की फेहरिस्त में शामिल हैं. मध्यप्रदेश की खरगोन लोकसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में किस्मत आजमा रहे करण (41) ने इस हलफनामे में खुद को केवल 1,000 रुपये का मालिक बताया है. यह रकम उनके उस बैंक खाते में जमा है जो उन्होंने चुनाव के खर्चों का हिसाब देने के लिये नियमानुसार खुलवाया है. हलफनामे के मुताबिक उनके एक अन्य बैंक खाते में "शून्य" रुपये जमा हैं.

बी. कॉम. तक पढ़े करण ने अपने चुनावी हलफनामे में खुद को पेशे से "कृषि मजदूर और सामाजिक कार्यकर्ता" बताया है. हलफनामे के मुताबिक उनके पास निजी मिल्कियत का न तो कोई वाहन है, न ही जेवरात. उनके पास खेत, मकान और जमीन जैसी एक भी अचल संपत्ति नहीं है. बहरहाल, सरकारी अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि 11 मई तक की स्थिति के मुताबिक करण द्वारा चुनाव में 12,500 रुपये खर्च किये जा चुके हैं.

यह पूछे जाने पर कि चुनावी हलफनामे में बतायी गयी भारी तंगहाली के बावजूद उन्होंने इस रकम का इंतजाम किस तरह किया, 41 वर्षीय अभिनेता ने जवाब में दावा किया कि वह अपने समर्थकों से रकम उधार लेकर चुनाव लड़ रहे हैं. करण ने कहा, "अगर मेरे पास पर्याप्त धन होता, तो मैं भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों को अपेक्षाकृत मजबूत चुनावी टक्कर दे सकता था."

खरगोन सीट अनुसूचित जनजाति के लिये आरक्षित है. पश्चिमी मध्यप्रदेश के खरगोन और बड़वानी जिलों में फैली इस सीट पर हालांकि कुल सात उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला भाजपा प्रत्याशी गजेंद्र सिंह पटेल और कांग्रेस प्रत्याशी गोविंद मुजाल्दा के बीच होना है. खरगोन क्षेत्र के 18.34 लाख मतदाता 19 मई को होने वाले चुनाव में उम्मीदवारों का भविष्य तय करेंगे.