आरोपी छात्र के पिता की याचिका को कोर्ट में चुनौती देंगे प्रद्युम्न के पिता

गुरुग्राम के रायन इंटरनेश्नल स्कूल में सात साल के बच्चे प्रद्युम्न की हत्या के मामले में वरुण ठाकुर सीबीआई द्वारा हिरासत में लिए गए 11वीं के छात्र के पिता की याचिका के खिलाफ कोर्ट जाएंगे.

आरोपी छात्र के पिता की याचिका को कोर्ट में चुनौती देंगे प्रद्युम्न के पिता
आरोपी छात्र है सीबीआई की हिरासत में (फाइल फोटो-Zee)

गुरुग्राम: गुरुग्राम के रायन इंटरनेश्नल स्कूल में सात साल के बच्चे प्रद्युम्न की हत्या के मामले में वरुण ठाकुर सीबीआई द्वारा हिरासत में लिए गए 11वीं के छात्र के पिता की याचिका के खिलाफ कोर्ट जाएंगे. दरअसल, किशोर न्याय बोर्ड ने हत्या के मामले में आरोपी छात्र को सीबीआई की तीन दिन की हिरासत में भेजा है, जिसके खिलाफ उसके पिता ने याचिका दाखिल की है. प्रद्युम्न के पिता ने कहा कि इस याचिका को अदालत में चुनौती दी जाएगी.

प्रद्युम्न ठाकुर के पिता के वकील सुशील टेकरीवाल ने मामले में जानकारी देते हुए बताया कि केस में अगली सुनवाई के दौरान वह आरोपी के पिता की याचिका का विरोध करेंगे. उन्होंने कहा कि पिता अपने बेटे को बचाने का प्रयास कर रहे हैं जो कि पहले ही सीबीआई की जांच में दोषी पाया जा चुका है.

रायन मर्डर केस: 8 सेकेंड के CCTV फुटेज में प्रद्युम्न को बुलाता दिखा था आरोपी छात्र

गौरतलब है कि 8 नवंबर को सीबीआई ने रायन इंटरनेश्नल स्कूल में ही 11वीं क्लास में पढ़ने वाले एक छात्र को हिरासत में ले लिया था. सीबीआई ने दावा किया है कि छात्र ने ही प्रद्युम्न की हत्या की है. छात्र को इसके बाद जुवेनाइल जस्टिस कोर्ट में ले जाया गया था, जहां सीबीआई ने बताया था कि आरोपी ने अपने पिता के सामने प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या में शामिल होने की बात स्वीकार की है, आरोपी द्वारा हत्या की बात कबुल करने के दौरान आरोपी के पिता के अलावा स्वतंत्र गवाह तथा सीबीआई के कई अधिकारी भी मौजूद थे. सीबीआई ने कहा कि आरोपी के कबुलानामे के अलावा उसके पास हत्याकांड के पुख्ता सबूत, फॉरेंसिक जांच तथा सीसीटीवी फुटेज भी है जिसके आधार पर उन्होंने सही आरोपी को पकड़ा है.

प्रद्युम्न मर्डर केसः आरोपी छात्र के पिता बोले- CBI मेरे बेटे को उलटा लटकाकर पीटती है

परीक्षा टालने के लिए हत्या
सीबीआई ने खुलासा किया था कि आरोपी छात्र का मकसद स्कूल की परीक्षा तथा टीचर-अभिभावक मीटिंग (पीटीएम) को स्थगित करवाना था, क्योंकि आरोपी पढ़ाई ने कमजोर था और परीक्षा में बैठने से डरता था.