प्रद्युम्न केस: पिता वरुण ठाकुर ने कहा - हमें सीबीआई जांच पर भरोसा

प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने सीबीआई जांच से फिलहाल संतुष्टि जताई है, कहा- सीबीआई की थ्योरी पर भरोसा

प्रद्युम्न केस: पिता वरुण ठाकुर ने कहा - हमें सीबीआई जांच पर भरोसा
पिता ने कहा, "कहीं न कहीं सीबीआई ने जो बताया है, वह एक संभावित वजह हो सकती है....(फोटो साभार: ANI)

नई दिल्ली: प्रद्युम्‍न मर्डर केस में 11वीं के हत्‍यारोपी छात्र को सीबीआई ने जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड में पेश किया. सीबीआई के मुताबिक आरोपी की आयु 16 साल से ज्‍यादा है, इसलिए उसे जुवेनाइल बोर्ड में पेश किया गया जहां से उसे  3 दिन की सीबीआई रिमांड पर भेज दिया गया. सीबीआई ने आरोपी की छह दिन की कस्‍टडी भी मांगी थी. इससे पहले सीबीआई ने अपनी जांच में दावा किया था कि प्रद्युम्न की हत्या 11वीं कक्षा में पढ़ने वाले एक स्टूडेंट ने परीक्षा को टालने के उद्देश्य से की थी. इस मामले में प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने सीबीआई जांच से फिलहाल संतुष्टि जताई है. प्रदयुम्न के पिता के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आए उनके वकील सुशील टेकरीवाल ने कहा, "आरोपी छात्र की आयु 16-18 के बीच है. इसलिए हम चाहते हैं कि बोर्ड उसे वयस्क माने. केस की जल्दी सुनवाई होनी चाहिए.'

पिता ने कहा, "कहीं न कहीं सीबीआई ने जो बताया है, वह एक संभावित वजह हो सकती है. सीबीआई ने अगर बच्चे को निकाला है तो उसके पास जरूत प्रूफ होगा. हमें सीबीआई पर भरोसा था. वहीं, मां सुषमा ठाकुर ने कहा कि आगे क्या आता है, देखना होगा. जांच जारी है. अभी तक जो आया है उससे  लोगों को जरूर इससे तसल्ली हुई है. लोगो को जो उम्मीद थी, उस पर सीबीआई कहीं न कहीं खरी उतरी है. हम तो यही जानना चाहते थे कि वास्तविक हत्यारा कौन है और उद्देश्य क्या था. हमें पुलिस की थ्योरी शुरू से ही हजम नहीं हो रही थी. तभी हम सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे. 

प्रद्युम्‍न मर्डर केस: आरोपी छात्र ने परीक्षा रद्द कराने के लिए मर्डर किया- CBI

इससे पहले, सीबीआई ने दावा किया था कि आरोपी छात्र ने परीक्षा रद्द कराने के लिए मर्डर किया. यह छात्र अभिभावक-छात्र मीटिंग (PTM) की तारीख भी आगे बढ़वाना चाहता था. यह छात्र चाकू लेकर उस दिन स्‍कूल गया था. प्रद्युम्‍न की हत्‍या के बाद आरोपी ने चाकू को फ्लश कर दिया था. सीबीआई के मुताबिक यह हत्‍या पूर्व नियोजित नहीं थी लेकिन यह छात्र कुछ ऐसा करना चाहता था ताकि परीक्षा की तारीखें आगे खिसक जाएं. छात्र ने कहा भी था कि कुछ ऐसा करूंगा कि परीक्षा ही नहीं होगी. इसीलिए प्रद्युम्‍न जैसे ही टॉयलेट में दिखा, उसकी हत्‍या कर दी गई. सीबीआई ने यह भी स्‍पष्‍ट किया है कि आरोपी कंडक्‍टर के खिलाफ सबूत नहीं मिले हैं. 

यह भी पढ़ें: प्रद्युम्‍न केस- मेरे बेटे को पिछली रात हिरासत में लिया गया, वह बेकसूर है: आरोपी छात्र के पिता

उधर, आरोपी छात्र के पिता ने कहा कि उनका बेटा बेकसूर है और उसने यह अपराध नहीं किया है. इस छात्र के पिता ने कहा कि सीबीआई ने मेरे बेटे को पिछली रात हिरासत में लिया. मेरे बेटे ने कोई अपराध नहीं किया है. उसने तो माली और टीचरों को सूचना दी थी. सूत्रों के मुताबिक इसी छात्र ने पहले बयान दिया था कि उसने टॉयलेट के पास माली को सबसे पहले देखा था. सीबीआई इससे पहले भी इस छात्र से कई बार पूछताछ कर चुकी है. गुरुग्राम की पुलिस ने भी जांच के दौरान धारा 164 के तहत इसका बयान दर्ज करा चुकी है.