पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले की जांच बंद

हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्य सतर्कता और भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो की सिफारिश पर पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के खिलाफ आय के ज्ञात स्रोत से अधिक संपत्ति की शिकायत की जांच बंद कर दी है.

पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले की जांच बंद
फाइल फोटो

शिमला: हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्य सतर्कता और भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो की सिफारिश पर भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के खिलाफ आय के ज्ञात स्रोत से अधिक संपत्ति की शिकायत की जांच बंद कर दी है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. राज्य में वीरभद्र सिंह के नेतृत्व वाली पूर्व की कांग्रेस सरकार ने धर्मशाला के एक वकील की शिकायत के आधार पर धूमल के खिलाफ सतर्कता जांच का आदेश दिया था. वकील ने आरोप लगाया था कि भाजपा नेता ने अपनी घोषित संपत्ति से अधिक संपत्ति अर्जित की.

राज्य सतर्कता और भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो (एसवी और एसीबी) के अतिरिक्त महानिदेशक अतुल वर्मा ने कहा, ‘‘धूमल के खिलाफ जांच बंद करने की सिफारिश राज्य सरकार को भेजी गयी क्योंकि शिकायत की जांच में आय के उनके ज्ञात स्रोत से अधिक की संपत्ति नहीं पायी गयी.’’ उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने एसवी और एसीबी की सिफारिश के आधार पर धूमल के खिलाफ जांच बंद करने का फैसला किया है.

जयराम ठाकुर ने किसान के बेटे से सीएम की कुर्सी तक का सफर यूं किया तय

क्या इस संबंध में कोई राजनीतिक दबाव था, यह पूछे जाने पर शर्मा ने कहा, ‘‘पूरी तरह गुण-दोष के आधार पर सिफारिश का फैसला किया गया.’’ उन्होंने कहा कि वेतन, भत्ते आदि सहित उनकी संपत्ति का आकलन उनके आय के ज्ञात स्रोत से किया गया जिसके बाद राज्य सरकार ने जांच बंद करने का फैसला किया.

(इनपुट-भाषा)