close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे पीएम मोदी, एजेंडे पर होंगे आंतकवाद, महिला सुरक्षा जैसे मुद्दें

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह जी-20 में शिखर सम्मेलन में बहुपक्षवाद में सुधार के लिए भारत के मजबूत समर्थन पर जोर देंगे, जो नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बनाये रखने के लिए महत्वपूर्ण है.

जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे पीएम मोदी, एजेंडे पर होंगे आंतकवाद, महिला सुरक्षा जैसे मुद्दें
पीएम मोदी बुधवार को जी 20 सम्मेलन में भाग लेने दिल्ली से रवाना हुए. (@PIB_India)

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी जापान के ओसाका शहर में जी-20 में शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे. बुधवार को जापान जाने से पहले प्रधानमंत्री ने कहा कि वह जी-20 में शिखर सम्मेलन में बहुपक्षवाद में सुधार के लिए भारत के मजबूत समर्थन पर जोर देंगे, जो नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बनाये रखने के लिए महत्वपूर्ण है.

रवानगी से पहले अपने बयान में उन्होंने कहा कि महिला सशक्तीकरण, कृत्रिम बुद्धिमत्ता और आतंकवाद जैसी चुनौतियों के समाधान के लिए आम प्रयास जैसे मुद्दे उनके एजेंडे में शीर्ष पर होंगे. 

पीएम मोदी ने कहा,‘शिखर सम्मेलन बहुपक्षवाद में सुधार के लिए हमारे मजबूत समर्थन को दोहराने और सुदृढ़ करने का एक महत्वपूर्ण अवसर प्रदान करेगा, जो आज की तेजी से बदलती दुनिया में नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बनाये रखने के लिए महत्वपूर्ण है.’

सम्मेलन भारत के विकास के अनुभव को साझा करने का एक मंच होगा
उन्होंने कहा कि सम्मेलन पिछले पांच वर्षों में भारत के विकास के अनुभव को साझा करने के लिए भी एक मंच होगा, जिसने भारत के लोगों को प्रगति और स्थिरता के मार्ग पर जारी रखने के लिए एक जबरदस्त जनादेश का आधार प्रदान किया.

उन्होंने कहा कि दो दिवसीय ओसाका शिखर सम्मेलन 2022 में जी -20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी के वास्ते भारत के लिए एक महत्वपूर्ण कदम होगा, जब हम अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ वर्ष में एक नए भारत की शुरूआत करेंगे.

'प्रमुख साझेदार देशों के नेताओं के साथ बैठक की उम्मीद है'
पीएम मोदी ने कहा कि सम्मेलन के इतर उन्हें द्विपक्षीय और वैश्विक महत्व के महत्वपूर्ण मुद्दों पर प्रमुख साझेदार देशों के नेताओं के साथ बैठक की उम्मीद है.

उन्होंने कहा,‘मैं सम्मेलन के इतर रूस, भारत और चीन (आरआईसी) की अनौपचारिक बैठक की मेजबानी करने के लिए भी उत्सुक हूं, और मैं ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) और जेएआई (जापान,अमेरिका और भारत) नेताओं की अगली अनौपचारिक बैठकों में भी भाग लूंगा.’