close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जाम्बियन राष्ट्रपति से मुलाकात पर बोले PM मोदी, 'जाम्बिया हमारा अच्छा और विश्वसनीय दोस्त है'

हैदराबाद हाउस में पीएम मोदी और एडगर चाग्वा लुंगू के बीच द्वीपक्षीय बातचीत हुई. 

जाम्बियन राष्ट्रपति से मुलाकात पर बोले PM मोदी, 'जाम्बिया हमारा अच्छा और विश्वसनीय दोस्त है'

नई दिल्लीः अफ्रीकी देश जाम्बिया के राष्ट्रपति एडगर चाग्वा लुंगू आज (मंगलवार) अपने तीन दिवसीय दौरे पर भारत पहुंचे. इस दौरान वह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में ऐसा पहली बार है जब किसी अफ्रीकी देश के प्रमुख की पीएम मोदी से मुलाकात हो रही है. हैदराबाद हाउस में पीएम मोदी और एडगर चाग्वा लुंगू के बीच द्वीपक्षीय बातचीत हुई. इस बातचीत के बाद पीएम मोदी ने कहा, 'जाम्बिया हमारा अच्छा और विश्वसनीय दोस्त है. हम जाम्बिया के साथ खनन क्षेत्र में संबंध और मजबूत करेंगे.'

पीएम मोदी ने कहा, जाम्बिया के साथ व्यापार को और बढ़ाएगें, विकास के अनुभव साझा करेंगे. 

इससे पहले केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने जाम्बिया के राष्ट्रपति से मुलाकात की. 

 इससे पहले जाम्बिया के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर राजघाट पहुंचे और बापू को श्रद्धांजलि अर्पित की.

इससे पहले जाम्बिया के राष्ट्रपति एडगर चाग्वा लुंगू को राष्ट्रपति भवन में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया.

बता दें कि भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अप्रैल महीने में जाम्बिया का दौरे पर गए थे, इस दौरान उन्होंने जाम्बिया के राष्ट्रति लुंगु को भारत आने का न्यौता दिया था. लुंगु के साथ भारत दौरे पर उच्चस्तरीय प्रतिनिमंडल भी आया है. जिसमें जाम्बिया के विदेश मंत्री जोसेफ मलांजी, वाणिज्य एवं व्यापार मंत्री क्रिस्टोफर यालुमा, खान एवं खनिज मंत्री रिचर्ड मुसुक्वा, राष्ट्रपति मामलों के मंत्री फ्रीछम सिकाजवे तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हैं.

इससे पहले विदेश मंत्रालय के एक बयान ने यात्रा की घोषणा करते हुए कहा था, 'इस दौरान होने वाली चर्चा में रक्षा, सुरक्षा, भूविज्ञान और खनिज संसाधनों, ऊर्जा, स्वास्थ्य, शिक्षा, बुनियादी ढांचे, संस्कृति, व्यापार और निवेश से संबंधित मुद्दों पर सहयोग पर ध्यान केंद्रित करने की संभावना है. इन सबके अलावा दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंधों को मजबूत करना भी इस बातचीत का अहम हिस्सा होगा.'