NCP के साथ बैठक के बाद बोले पृथ्वीराज च्व्हाण, 'महाराष्ट्र में जल्द स्थिर सरकार आएगी'

 दिल्ली में कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं के बीच महाराष्ट्र में नई सरकार बनाने के मुद्दे पर बैठक हुई. बैठक के बाद कांग्रेस और एनसीपी नेताओं ने संयुक्त प्रेस कॉन्फेंस की लेकिन कोई ठोस नतीजा अभी भी निकल पाया है.

NCP के साथ बैठक के बाद बोले पृथ्वीराज च्व्हाण, 'महाराष्ट्र में जल्द स्थिर सरकार आएगी'
चव्हाण ने कहा कि महाराष्ट्र में जल्द स्थिर सरकार आएगी

नई दिल्ली: दिल्ली में कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं के बीच महाराष्ट्र (Maharashtra) में नई सरकार बनाने के मुद्दे पर बैठक हुई. बैठक के बाद कांग्रेस और एनसीपी नेताओं ने संयुक्त प्रेस कॉन्फेंस की लेकिन कोई ठोस नतीजा अभी भी निकल पाया है. महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavan) ने आश्वासन देते हुए जरूर कहा कि महाराष्ट्र में जल्द स्थिर सरकार आएगी लेकिन कब आएगी, इसका कोई सही जवाब उन्होंने नहीं दिया. 

चव्हाण ने कहा, "राज्य में 21 दिन से चली राजनीतिक अस्थिरता खत्म करने के लिए एनसीपी -कांग्रेस में चर्चा हुई, कल भी चर्चा जारी रहेगी. महाराष्ट्र को जल्द स्थिर सरकार मिलेगी. कांग्रेस-एनसीपी में बहुत ही सकारात्मक माहौल में चर्चा हुई. महाराष्ट्र में किसानों को मदद नहीं मिल पा रही है. सरकार बनाने को लेकर बातचीत अभी जारी है." 
 
इस मौके पर मौजूद एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार नहीं है, सब कुछ ठप्प है. किसानों को मदद मिलनी चाहिए, इकसलिए जरूई है कि वैकल्पिक सरकार जल्द बने. तीन पार्टी शिवसेना, कांग्रेस, एनसीपी को एक साथ लिए बिना सरकार नही बन सकती.  तीन पार्टियों की सरकार बने, इन बिंदुओं पर चर्चा चल रही है.

 

महाराष्ट्र में एनसीपी-कांग्रेस-शिवसेना की सरकार तय!
NCP सांसद माजिद मेमन (Majid memon) के दावों की मानें तो महाराष्ट्र में सरकार बनने का रास्ता साफ हो चुका है. माजिद मेमन (Majid memon) ने बुधवार को दावा किया कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस की गठबंधन सरकार बनाने पर सहमति दे दी हैं. मेमन का यह बयान कांग्रेस और एनसीपी नेताओं की दिल्ली में हुई बैठक के बाद आया है. सूत्रों के मुताबिक शिवसेना और एनसीपी के बीच हुई डील के मुताबिक दोनों दलों के मुख्यमंत्री ढाई-ढाई साल के लिए होंगे. शिवसेना, NCP और कांग्रेस की गठबंधन सरकार में मुख्यमंत्री समेत कुल 43 मंत्री शामिल हो सकते हैं.