Breaking News
  • दिल्‍ली हिंसा पर कांग्रेस ने राष्‍ट्रपति को ज्ञापन सौंपा
  • सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह समेत कई नेता राष्‍ट्रपति से मिले
  • अखिलेश यादव सीतापुर के लिए निकले. जेल में बंद सपा नेता आजम खां व उनके परिवार से करेंगे मुलाकात

#PulwamaNahinBhulenge बना टॉप ट्रेंड, लोगों ने किया शहादत को सलाम

देश की आत्‍मा को झकझोरने वाले पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Attack) का 14 फरवरी को एक साल पूरा हो रहा है.

#PulwamaNahinBhulenge बना टॉप ट्रेंड, लोगों ने किया शहादत को सलाम

नई दिल्‍ली: देश की आत्‍मा को झकझोरने वाले पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Attack) का 14 फरवरी को एक साल पूरा हो रहा है. भले ही हमारे ही देश की याददाश्‍त कमजोर है और हम ऐसी कई घटनाओं को भूल जाते हों लेकिन ये मामला कुछ अलग है. इसकी बानगी इस बात से समझी जा सकती है कि 13 फरवरी को Zee News के एडिटर-इन-चीफ सुधीर चौधरी (Sudhir Chaudhary) ने जब अपने फ्लैगशिप प्रोग्राम DNA में उस घटना को याद किया तो देखते ही देखते #PulwamaNahinBhulenge हैशटैग ट्विटर पर टॉप पर ट्रेंड करता रहा. यानी यह देर शाम भारत में पहले नंबर पर ट्रेंड करता रहा. इसके माध्‍यम से ये समझा जा सकता है कि देश ने अपने तरीके से शहादत को सलाम किया. शहीदों को नमन किया. दर्द के 1 साल गुजरने पर उन परिवारों को नमन किया जिनके सपूतों ने देश के लिए सर्वोच्‍च बलिदान दिया.

5 फरवरी: इंडिया का DNA रहा सुपरहिट, Zee News बना नंबर-1, सभी न्यूज चैनलों को दी करारी मात

पुलवामा हमला
एक साल पहले 14 फरवरी 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में CRPF के जवानों पर बहुत बड़ा हमला हुआ था और इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. ये हमला 2016 में उरी में हुए आतंकवादी हमले से भी बड़ा था और इसने पूरे भारत के धैर्य और सब्र को तोड़कर रख दिया था.

जब देश के 40 जवान शहीद होते हैं, तो उसे हमला नहीं युद्ध कहा जाता है. तब देश का मूड ये था कि अगर हमला अभूतपूर्व है, तो बदला भी अभूतपूर्व होना चाहिए. अगर हमला सबसे बड़ा है, तो भारत का बदला भी सबसे बड़ा होना चाहिए. लोग ये कह रहे थे कि अब सर्जिकल स्ट्राइक नहीं.. पूरी सफाई करनी होगी.

जब इन शहीदों के शव दिल्ली लाए गए तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत देश के तमाम बड़े नेताओं ने इन्हें श्रद्धांजलि दी थी. प्रधानमंत्री मोदी ने शहीदों की परिक्रमा भी की थी और तमाम पार्टियों के नेताओं ने भी इस मौके पर एकजुटता दिखाई थी. ..

इस हमले के ठीक 12 दिनों के बाद यानी 26 फरवरी को भारत ने बदले की बड़ी कार्रवाई की. भारत के 12 मिराज 2000 फाइटर जेट्स ने पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए- मोहम्मद के उस ठिकाने पर बम बरसाए जहां आतंकवादियों को भारत पर हमले की ट्रेनिंग दी जाती थी. इस हमले में 250 से 300 आतंकवादियों के मारे जाने का दावा किया गया था.