Navjot Singh Sidhu फिर हुए आक्रामक, बोले- पंजाब में पिछली सीट पर नहीं बैठूंगा
X

Navjot Singh Sidhu फिर हुए आक्रामक, बोले- पंजाब में पिछली सीट पर नहीं बैठूंगा

पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में कैप्टन अमरिंदर सिंह के गद्दी छोड़ देने के बाद भी चीजें ठीक नहीं रही हैं. प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने एक बार फिर अपनी सरकार को कटघरे में खड़ा किया है.

Navjot Singh Sidhu फिर हुए आक्रामक, बोले- पंजाब में पिछली सीट पर नहीं बैठूंगा

चंडीगढ़: पंजाब कांग्रेस (Punjab Congress) में कैप्टन अमरिंदर सिंह के गद्दी छोड़ देने के बाद भी चीजें ठीक नहीं रही हैं. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) का रुख पार्टी में लगातार हमलावर बना हुआ है. 

सिद्धू ने फिर उठाए चन्नी सरकार पर सवाल

सिद्धू ने रविवार तो लगातार 3 ट्वीट करके पार्टी और पंजाब की चन्नी सरकार पर कई सवाल उठाए. सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने ट्वीट करके कहा, पंजाब को अब अपने असल मुद्दों पर वापस आना चाहिए. ये मुद्दे हर पंजाबी और हमारी आने वाली पीढ़ी की चिंता की बड़ी वजह हैं. हम उस वित्तीय आपातकाल का मुकाबला कैसे करेंगे, जो लगातार हमारे सामने परेशानी पैदा कर रहा है. मैं लगातार असल मुद्दों पर डटा रहूंगा और पिछली सीट पर नहीं बैठूंगा.'

'राज्य को आगे बढ़ाने का काम कौन करेगा'

अपने दूसरे ट्वीट में सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने कहा, ' यह डैमेज कंट्रोल और अपूरणीय क्षति के बीच अंतिम चुनाव है. सवाल है कि राज्य के संसाधनों को निजी जेबों में जाने के बजाय राज्य के खजाने में कौन वापस लाएगा? हमारे महान राज्य को समृद्धि के रास्ते पर वापस लाने के लिए नेतृत्व कौन करेगा?'

'सच्चाई सूरज की तरह चमकने लगेगी'

सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने अपने तीसरे ट्वीट में कहा, 'पंजाब के पुनरुद्धार के रोडमैप से धुंध को साफ होने दें. उसके बाद सच्चाई सूरज की तरह चमकने लगेगी. राज्य को बर्बाद कर रहे निहित तत्वों पर कार्रवाई हो. उस रास्ते पर फोकस किया जाए, जिससे जीतेगा पंजा, जीतेगी पंजाबियत और जीतेगा हर पंजाबी.'

ये भी पढ़ें- 'मन की बात' में पीएम मोदी का राष्ट्र को संदेश, 'दिवाली पर खरीददारी मतलब वोकल फॉर लोकल'

सीएम की कुर्सी दूर जाने से नाराज हैं सिद्धू?

बताते चलें कि नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के खिलाफ अभियान चलाया था. जिसके बाद उन्हें अपनी कुर्सी छोड़नी पड़ी थी. राजनीतिक जानकारों के मुताबिक सिद्धू को उम्मीद थी कि कैप्टन के बाद सीएम की कुर्सी उन्हें ही मिलेगी लेकिन वह चरणजीत सिंह चन्नी के पास चली गई. इसके बाद सिद्धू रह-रहकर लगातार आक्रामक बयान जारी कर रहे हैं.

LIVE TV

Trending news