close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राफेल के बड़े विवाद पर बोले फ्रांस के राजदूत, 'मेरा जवाब बहुत छोटा सा है...'

राफेल डील पर एलेक्जेंडर जिगलर ने गुरुवार को कहा, 'इस मुद्दे पर मेरा जवाब बहुत छोटा-सा है. आप सिर्फ तथ्यों को देखिए लोगों के ट्वीट्स नहीं.'

राफेल के बड़े विवाद पर बोले फ्रांस के राजदूत, 'मेरा जवाब बहुत छोटा सा है...'
भारत में फ्रांस के राजदूत एलेक्जेंडर जिगलर.
Play

बेंगलुरु: राफेल डील मामले में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस सत्ताधारी बीजेपी पर लगातार हमले कर रही है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने हर चुनावी भाषण में राफेल डील को लेकर केंद्र सरकार पर आक्रामक हमले कर रहे हैं. विपक्ष का आरोप है कि केंद्र की मौजूदा सरकार ने राफेल डील में एक बड़े कारोबारी को लाभ पहुंचाया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का आरोप है कि राफेल डील में मौजूदा सरकार ने बड़ा घोटाला किया है. राफेल डील पर सत्ता और विपक्ष में मचे घमासान के बीच भारत में फ्रांस के राजदूत एलेक्जेंडर जिगलर का बयान आया है. न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक एलेक्जेंडर जिगलर ने गुरुवार को कहा, 'इस मुद्दे पर मेरा जवाब बहुत छोटा-सा है. आप सिर्फ तथ्यों को देखिए लोगों के ट्वीट्स नहीं.'

इससे पहले बुधवार को एलेक्जेंडर जिगलर ने कहा था कि राफेल समझौते में कोई ‘घोटाला’ नहीं हुआ. भारत और फ्रांस के बीच ‘सहयोग’ एवं ‘विश्वास’ की ओर इशारा करते हुए उन्होंने लोगों से तथ्यों को ध्यान में रखने को कहा. उन्होंने कहा, “क्या घोटाला? तथ्यों की ओर देखें, न कि ट्वीट पर ध्यान दें, मेरी बस यही अपील है. 

कथित राफेल घोटाले से भारत और फ्रांस की साझेदारी को कोई नुकसान होने के संबंध में पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में जिगलर ने कहा, 'कोई घोटाला हुआ ही नहीं है.” यहां फ्रेंच टेक कम्युनिटी के लॉन्च से इतर संवाददाताओं से उन्होंने कहा, 'पिछली उपलब्धियों को देखें, एअरोनॉटिक्स के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच बने भरोसे को देखें.' मेक इन इंडिया के लिए उनकी प्रतिबद्धता को देखें जो काफी प्रभावित करने वाली है. 50 प्रतिशत ऑफसेट काफी अनोखा है, बड़े सरकारी खरीद पर गौर करें.'

राफेल डील पर राहुल के ताबड़तोड़ हमले
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर केंद्र सरकार पर फिर निशाना साधा और कहा कि इस ‘चोरी’ ने अब फ्रांस की सरकार को भी मुश्किल में डाल दिया है. गांधी ने ट्वीट किया, ‘हमारे चौकीदार की चोरी ने, फ्रांस की सरकार को मुश्किल में डाल दिया हैं. राफेल सौदे को लेकर अब फ्रांस की जनता जांच की मांग कर रही है.’

कांग्रेस अध्यक्ष ने जो खबर शेयर की है उसमें कहा गया है कि फ्रांस के एक एनजीओ ने राफेल मामले को लेकर वहां के लोक अभियोजक कार्यालय में शिकायत दर्ज कराई है. एनजीओ ने तथ्यों की गंभीरता से जांच कर यह स्पष्टीकरण उपलब्ध कराने की मांग की है कि आखिर किन नियम कायदों के जरिए भारत और फ्रांस के बीच 36 राफेल विमानों का सौदा हुआ.

पिछले कई महीनों से कांग्रेस और राहुल गांधी राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर सवाल खड़े करते आ रहे हैं. उनका आरोप है कि संप्रग सरकार के समय विमान की तय कीमत के मुकाबले केंद्र सरकार ज्यादा कीमत अदा कर रही है. उनका आरोप यह भी है कि इस सौदे में ऑफसेट साझेदार के तौर पर हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स को उपेक्षित रखा गया और एक निजी कंपनी को फायदा पहुंचाया गया है.

सरकार की तरफ से कांग्रेस और राहुल गांधी के इन आरोपों को सिरे से खारिज किया गया है. सरकार और राफेल विनिर्माता कंपनी दसाल्ट का कहना है कि यह सौदा पूरी तरह से नियमों के तहत किया गया है.