close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पी चिदंबरम के बचाव में आए राहुल गांधी, बोले- उनके खिलाफ ED-CBI का इस्तेमाल किया गया

महासचिव प्रियंका गांधी के बाद कांगेस नेता राहुल गांधी पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम के बचाव में उतर आए हैं.

पी चिदंबरम के बचाव में आए राहुल गांधी, बोले- उनके खिलाफ ED-CBI का इस्तेमाल किया गया
राहुल ने केंद्र सरकार पर सत्ता के दुरुपयोग का आरोप लगाया.

नई दिल्ली: महासचिव प्रियंका गांधी के बाद कांगेस नेता राहुल गांधी पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम के बचाव में उतर आए हैं. राहुल ने केंद्र सरकार पर सत्ता के दुरुपयोग का आरोप लगाया. राहुल ने कहा कि चिदंबरम के खिलाफ ईडी-सीबीआई का इस्तेमाल किया गया है.

इससे पहले, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी पी चिंदबरम का बचाव किया था. प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने एक ट्वीट में कहा, "अत्यंत योग्य और शिक्षित राज्यसभा सदस्य पी चिदंबरम, जिन्होंने ईमानदारी और निष्ठा के साथ देश के वित्त मंत्री और गृह मंत्री के रूप में अपनी सेवाएं दी. जो बेजिझक सत्ता के खिलाफ बोलते रहे और सरकार की नाकामियों का खुलासा करते रहे... "

चिदंबरम के समर्थन में उतरीं प्रियंका गांधी वाड्रा, 'हम उनके साथ खड़े हैं, चाहे परिणाम जो भी हो'

 

इधर, INX मीडिया हेराफेरी मामले में पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री व कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता पी चिदंबरम को फिलहाल सुप्रीम कोर्ट से कोई राहत नहीं मिली है. चिदंबरम के वकीलों ने बुधवार को स्पेशल लीव पिटीशन याचिका दायर करके अग्रिम जमानत देने की मांग की थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस रमन्ना की बेंच ने याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया. अब मुख्य न्यायाधीश यह फैसला करेंगे कि चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका पर जल्द सुनवाई हो या नहीं. उधर, सीबीआई ने पी. चिदंबरम के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया है.

जानें क्या है INX मीडिया केस, जिसको लेकर मुश्किल में हैं पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम

चिदंबरम पर ईडी ने सुप्रीम कोर्ट में कैविएट दाखिल की है. ईडी ने सुप्रीम कोर्ट से अपील की है कि 'हमारा पक्ष सुने बिना कोई फैसला ना दें'. चिदंबरम की याचिका डिफेक्ट में चली गई है यानी इसमें सुधार की जरूरत है. ऐसे में सुप्रीम कोर्ट याचिका में सुधार करने के लिए कह सकता है. हाल ही में अनुच्छेद 370 की याचिका पर वकील और याचिकाकर्ता को याचिका में सुधार करने को सुप्रीम कोर्ट ने कहा था. मौजूदा समय में चिदंबरम की याचिका में खामी या कमी है जो रजिस्ट्री में दाखिल की गई है.