कांग्रेस का घोषणापत्र किसी अहंकारी व्यक्ति के 'मन की बात' नहीं है बल्कि देश के काम की बात है: राहुल

राहुल गांधी ने कहा, ‘हम नफरत के रास्ते नरेन्द्र मोदी से लड़ने नहीं जा रहे. हम भारतीयों के बीच प्यार और स्नेह बढ़ा कर मोदी की नफरत से लड़ने जा रहे हैं.'

कांग्रेस का घोषणापत्र किसी अहंकारी व्यक्ति के 'मन की बात' नहीं है बल्कि देश के काम की बात है: राहुल
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (फोटो साभार - @INCIndia)

थेनी (तमिलनाडु): कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर 'मन की बात' कार्यक्रम को लेकर तीखा हमला बोलते हुए शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस का चुनावी घोषणापत्र किसी अहंकारी व्यक्ति के मन की बात नहीं है बल्कि देश के काम की बात है.

तमिलनाडु के दक्षिण में थेनी कस्बे में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने दावा किया कि लोकसभा चुनाव के लिए जारी कांग्रेस का घोषणापत्र पूरे देश की आवाज है और उन्हें खुशी है कि कई लोगों ने इसकी सराहना की है. 

'न्याय' योजना को बताया 'बेहद क्रांतिकारी'
उन्होंने कहा, 'कांग्रेस का घोषणापत्र किसी अहंकारी व्यक्ति के मन की बात नहीं है बल्कि देश के काम की बात है.' राहुल ने गरीबों में गरीब को प्रति वर्ष 72000 रूपये देने का प्रावधान करने वाली अपनी 'न्याय' योजना को 'बेहद क्रांतिकारी' बताते हुए कहा कि दुनिया की किसी भी सरकार ने अब तक ऐसी योजना लाने की कोशिश नहीं की. 

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर ‘नकारात्मक अर्थशास्त्र’ पर अमल करने का आरोप लगाया और कहा कि लोगों की खरीद क्षमता खत्म हो चुकी है, जिसकी वजह से सामान नहीं बिक रहे हैं और फैक्ट्रियों में पड़े हैं. कांग्रेस अध्यक्ष ने दावा किया कि इसी वजह से फैक्ट्रियों ने माल का उत्पादन बंद कर दिया है और लोगों को काम पर रखना बंद कर दिया है जिससे बेरोजगारी बढ़ी है.

'हम नफरत के रास्ते नरेन्द्र मोदी से लड़ने नहीं जा रहे'
राहुल ने कहा कि मोदी 'भारतीयों के बीच नफरत का तत्व हैं.' उन्होंने कहा, ‘हम नफरत के रास्ते नरेन्द्र मोदी से लड़ने नहीं जा रहे. हम भारतीयों के बीच प्यार और स्नेह बढ़ा कर मोदी की नफरत से लड़ने जा रहे हैं.'