कश्मीर घाटी में 3 माह से बंद पड़ी रेल सेवा पूरी तरह बहाल, श्रीनगर-बानिहाल के बीच दौड़ी रेल

 कश्मीर घाटी में तीन माह से बंद पड़ी रेल सेवा शनिवार को पूरी तरह से बहाल कर दी गई. पहले श्रीनगर-बारामुला रेल सेवा को बहाल किया गया और अब नगर-बानिहाल रेल सेवा को भी प्रशासन ने हरी झंडी दिखाई है. 

कश्मीर घाटी में 3 माह से बंद पड़ी रेल सेवा पूरी तरह बहाल, श्रीनगर-बानिहाल के बीच दौड़ी रेल
रेलवे प्रबंधन के अनुसार लोगों को हो रही दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है.

श्रीनगर: कश्मीर घाटी (Kashmir valley) में तीन माह से बंद पड़ी रेल सेवा (Rail Service) शनिवार को पूरी तरह से बहाल कर दी गई. पहले श्रीनगर-बारामुला रेल सेवा को बहाल किया गया और अब नगर-बानिहाल रेल सेवा को भी प्रशासन ने हरी झंडी दिखाई है. रेलवे प्रबंधन के अनुसार लोगों को हो रही दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है.

बीते सोमवार को श्रीनगर-बारामुला रेल लाइन पर ट्रायल रनकर इस लाइन पर रेल सेवा को लोगों के लिए मंगलवार से शुरू कर दी गई थी. वहीं शनिवार को श्रीनगर-बानिहाल रेल लाइन पर भारतीय रेलवे (Indian Railways)  और सुरक्षाबलों के वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी में ट्रायल रन को अंजाम दिया गया. सोमवार से इसे आम लोगों के लिए शुरू कर दिया जाएगा. इतने लंबे समय तक बंद रहने के बाद रेल प्रबंधन ने इस सेवा को एक बार फिर से बहाल करने का फैसला इसलिए लिया गया ताकि आम लोगों को इस सेवा का लाभ हो. इस बीच रेल प्रबंधन के इस फैसले का दक्षिणी कश्मीर के लोगों ने स्वागत किया गया है. उन्होंने कहा कि इससे उन्हें बहुत फायदा मिलेगा और कहीं आने-जाने में होने वाली दिक्कत दूर हो पाएगी. पैसे और वक्त दोनों की बचत होगी.

रेल्वे पुलिस के एसएसपी शौकत हुसैन ने बताया, "यहां पिछले करीब तीन महीने से रेल सेवा बंद थी. उसके चलते लोगों को दिक्कतों का सामना पड़ रहा था और हमारे यहां राष्ट्रीय राजमर्ग अक्सर सर्दियों में बंद रहता है. इसलिए रेल का चलना बहुत ज़रूरी है और इसी के चलते हमने इससे पूर्व श्रीनगर-बारामुला के बीच रेल सेवा शुरू की थी और आज हमने श्रीनगर-बानिहाल रेल लाइन पर ट्रायल रन किया." 

एसएसपी ने कहा कि जहां तक सुरक्षा का सवाल है, रेलवे और पुलिस एक साथ मिलकर काम कर रही है. उन्होंने बताया कि हर जगह चाहे वो ट्रैक की सुरक्षा हो या रेल्वे स्टेशन की सुरक्षा, हर जगह रेलवे और जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानो की तैनाती की गई है. सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं और हर सिथिति से निपटने के लिए तैयार हैं.

देखें वीडियो:

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद जो माहौल बन गया था, उससे सुरक्षा एजंसियों को लगा था कि रेल को पटरी पर दौड़ाना सुरक्षित नहीं, इसलिए उन्होंने रेल प्रबंधन को घाटी में 5 अगस्त से जम्मू संभाग के बानिहाल से उत्तरी कश्मीर के बारामुला तक चलने वाली रेल सेवा को बंद करने के निर्देश दिए थे. इन तीन महीनों के दौरान रेल सेवा बंद रहने के कारण करीब 3 करोड़ का नुकसान हुआ है और ऐसा दूसरी बार हुआ है कि रेल सेवा को इतने लंबे समय के लिए बंद रखा गया हो. इससे पूर्व वर्ष 2016 में हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद पैदा हुए हालातों के चलते इस सेवा को करीब 5 महीनो के लिए बंद रखा गया था.