राजस्थान सरकार और राजभवन के बीच नहीं कोई टकराव: कलराज मिश्र

कलराज मिश्र ने कहा कि प्रदेश में सरकार और राजभवन के बीच कोई टकराव की स्थिति नहीं है. सरकार और राजभवन अपनी गरिमा में रहकर अपना काम कर रहे हैं. 

राजस्थान सरकार और राजभवन के बीच नहीं कोई टकराव: कलराज मिश्र
राज्यपाल अपने 100 दिनों के कामकाज को लेकर राजभवन में मीडिया से मुखातिब हो रहे थे.

भरत राज/जयपुर: राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि प्रदेश में सरकार और राजभवन के बीच कोई टकराव की स्थिति नहीं है. सरकार और राजभवन अपनी गरिमा में रहकर अपना काम कर रहे हैं. वहीं अन्य राज्यों में राजभवन और सरकारों के बीच टकराव की स्थिति पर उन्होंने कहा कि इसके बारे में वहां की सरकारें ही ज्यादा बता सकती हैं. राज्यपाल कलराज मिश्र अपने 100 दिनों के कामकाज को लेकर राजभवन में मीडिया से मुखातिब हो रहे थे. 

राजभवन में पत्रकारों से वार्ता करते हुए राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि हमने विभिन्न यूनिवर्सिटीज में शैक्षणिक माहौल सुदृढ़ करने के लिए सभी विश्वविद्यालयों को निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही हमने कहा कि यूनिवर्सिटीज में स्टूडेंट्स ही नहीं टीचर्स की भी उपस्थिति सुनिश्चित की जाए. इसके साथ ही विश्वविद्यालयों में नियमित पाठ्यक्रम की समीक्षा की निर्देश दिए हैं. जिससे स्टूडेंट्स रोजगार परक शिक्षा हासिल कर सके. वहीं ई गवर्नेंस पर जोर दिया जा रहा है. छात्रों को बार बार शुल्क से छूट देने पर भी काम किया जा रहा है. 

यूजीसी के नियमों से ही होगी कुलपति की नियुक्ति
राज्यपाल कलराज मिश्र ने विश्वविद्यालयों में खाली पदों को यूजीसी के नियमों के तहत भरने पर जोर दिया. इसके साथ ही कुलपतियों की नियुक्ति में यूजीसी की गाइडलाइन का पालन न किए जाने पर भी स्पष्ट किया कि नियुक्ति यूजीसी की गाइडलाइन से ही होगी. वहीं अभी वित्तीय हालात ठीक नहीं है. फिर भी खाली पदों को भरने पर काम किया जा रहा है. जल्द ही सभी खाली पदों को भरा जाएगा. 

CAA केंद्र और राज्य सरकार के बीच का मामला
नागरिकता संशोधन कानून को लेकर मचे बवाल को लेकर राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि संशोधन कानून को लागू करना या नहीं करना यह केंद्र और राज्य सरकार के बीच का मसला है. कानून को लागू करना राज्यों की जिम्मेदारी होती है. कानून काे लेकर कोई दिक्कत है तो राज्य सरकारें केंद्र से वार्ता कर सकती है. वहीं कानून को लेकर देशभर में हो रहे प्रदर्शनों को लेकर उन्होंने कहा कि आप शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर सकते हैं. अपना विरोध दर्ज करा सकते हैं, लेकिन बस जलाना, घर जलाना यह कानूनी गलत है. 

जल संरक्षण पर दिया जोर
राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि उन्हें प्रदेश में गवर्नर के पद पर आसीन हुए 100 दिन पूरे हो गए हैं. इन सौ दिनों में मैंने यहां की यूनिवर्सिटीज, विभिन्न जिलों, सामाजिक संस्थाओं, अधिवक्ताओं के कार्यक्रमों में शिरकत की. इसके साथ ही प्रदेश के 18 जिलों का विजिट मैंने किया. सब जगह हमने एक ही प्रयास किया कि लोगों में सामाजिक समरसता का विकास हो और आपसी समन्वय से प्रगति के पथ पर आगे बढ़े. इस दौरान धार्मिक स्थलों का भी दौरा किया. यहां धार्मिक पर्यटन में पर्याप्त संभावनाएं है. विश्वविद्यालयों के दौरों में मैंने यहां जल संरक्षण, वाटर हार्वेस्टिंग, भूजल को बढ़ाने पर जोर दिया. प्रदेश में पानी की स्थिति ठीक नहीं है. इसको लेकर रिसर्च होना चाहिए कैसे जल स्तर को बढ़ाया जा सकता है. 

वहीं विभिन्न जुलूस, रैलियों और अन्य कवरेजों के दौरान पत्रकारों के साथ होने वाली मारपीट या धक्का मुक्की पर भी उन्होंने नाराजगी जताई. उन्होंने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र के प्रहरी हैं. ऐसी घटना होने पर मैं भी सरकार से वार्ता करूंगा. ऐसी घटनाएं प्रदेश में नहीं होनी चाहिए.