Bharatpur: अवैध शराब पीने से 2 लोगों की मौत, 6 बीमार, प्रशासन को खबर भी नहीं!

 इससे पहले भी कामां इलाके में पांच लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हो गई चुकी है, जिसमें कुछ लोग यूपी के मथुरा (Mathura) जिले के थे.

Bharatpur: अवैध शराब पीने से 2 लोगों की मौत, 6 बीमार, प्रशासन को खबर भी नहीं!
प्रतीकात्मक तस्वीर.

देवेंद्र सिंह, भरतपुर: रूपवास थाना (Roopwas Thana) अंतर्गत गांव चक में बुधवार को अवैध शराब (Illegal Liquor) का सेवन करने से दो लोगों की मौत (Death) हो गई. इसमें एक सरपंच का बड़ा भाई है जबकि छह अन्य बीमार हो गए. इन्हें परिजन सुबह रूपवास अस्पताल में लेकर पहुंचे, जहां से इन्हें जिला आरबीएम अस्पताल (RBM Hospital) रेफर कर दिया गया. 

यह भी पढ़ें- भरतपुर: जहरीली शराब पीने से तीन दिन में 8 लोगों की मौत, मचा हाहाकार

उधर, सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और घटना की जानकारी ली. जबकि आबकारी विभाग (Excise Department) को घटना होने के बाद तक खबर तक नहीं थी. यह इलाका बयाना आबकारी निरीक्षक के अंतर्गत है. उधर, जिला आबकारी अधिकारी फोन तक रिसीव नहीं कर रहे हैं. इससे पहले भी कामां इलाके में पांच लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हो गई चुकी है, जिसमें कुछ लोग यूपी के मथुरा (Mathura) जिले के थे.

जानकारी के अनुसार, रूपवास थाने के गांव चक में मंगलवार रात कुछ लोगों ने गांव से ही अवैध देशी शराब खरीद कर पी. इसके बाद यह लोग सोने चले गए. बुधवार तड़के अचानक तबीयत खराब होने पर परिजन कुछ लोगों को रूपवास अस्पताल ले गए. वहीं, चक निवासी प्रीतम कुशवाह और मांगे की घर पर ही मौत हो गई जबकि अस्पताल में छह जनों को भर्ती कराया. इन्हें आंख से नहीं दिखाई देने पर भरतपुर (Bharatpur) रैफर कर दिया. वहीं, मृतक प्रीतम ग्राम पंचायत नोहरदा के सरपंच रोहतम कुशवाह का बड़ा भाई है. घटना की जानकारी मिलने पर इलाके में हड़कंप मच गया. सूचना पर थाना रूपवास के कार्यवाहक प्रभारी जमील खां मय जाब्ते मौके पर पहुंचे और जानकारी ली. उधर, पुलिस ने कुछ शराब जो मौके पर घरों से मिली है उसे जब्त किया है.

आबकारी विभाग को अधिकारियों ने मूंद रखी हैं आंखें
उधर, घटना की जानकारी के लिए जिला आबकारी अधिकारी से संपर्क किया तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया है. जिले में अवैध शराब (Illegal Liquor) सेवन से यह दूसरी घटना है. इससे पहले कामां सर्किल में मौतें हो चुकी हैं. वहीं, आबकारी विभाग की ओर से इलाके में कार्रवाई नहीं करने से लगातार कई गांवों में कच्ची शराब और देशी शराब बनाने का खेल हो रहा है. इसकी जानकारी इलाके में सब को लेकिन आबकारी विभाग को नहीं है. यह इलाका आबकारी विभाग के बयाना सर्किल में आता है लेकिन यहां पदस्थापित निरीक्षक भी खानापूर्ति करने में लगे हैं.