close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: ज्वार की जहरीली फसल खाकर 25 गायों की मौत, मचा हड़कंप

ग्रामीणों की सूचना पर पशु चिकित्सालय से डॉक्टर की टीम व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे. जिसके बाद खेत में अचेत पड़ी गायो का तुरंत इलाज शुरू किया गया.

कोटा: ज्वार की जहरीली फसल खाकर 25 गायों की मौत, मचा हड़कंप
मौके पर प्रशासनिक अधिकारियों के साथ चिकित्सक मौजूद हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

कोटा: कोटा जिले के पीपल्दाकलां क्षेत्र में ज्वार की जहरीली फसल खाने के कारण करीब 25 गायों की मौत हो गई. घटना की जानकारी मिलने के बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया. घटना की जानकारी मिलने के बाद वहां पहुंची डॉक्टरों की टीम ने इलाज शुरू किया.

खबर के अनुसार, ग्रामीणों की सूचना पर पशु चिकित्सालय से डॉक्टर की टीम व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे. जिसके बाद खेत में अचेत पड़ी गायो का तुरंत इलाज शुरू किया गया. जिस कारण करीब 23 गायों की जान बच गई. प्रशासन ने खेत मालिकों को फसलों की हंकाई करने के लिए पाबंद कर दिया है.

पीपल्दाकलां कस्बे में सूखनी नदी के पास एक किसान ने अपने 16 बीघा खेत मे ज्वार की फसल लगाई हुई है. फसल को लंबे समय से पानी नहीं मिलने पर ज्वार जहर में तब्दील हो गई. आसपास के गांवों से खेतों में चरने आई गायों ने जैसे ही फसल खाई तो जहर के प्रभाव से सभी अचेत हो गई. इस दौरान यहां से गुजर रहे लोगों ने बड़ी संख्या में गायों को अचेत पड़ा देखा तो पुलिस व प्रशासन को सूचना दी. जानकारी मिलने के बाद प्रशासनिक अधिकारी के साथ पशु चिकित्सक मौके पर पहुंचे. लेकिन इलाज में देरी के कारण कई गायों की मौत हो गई.

जानकारों की मानें तो ज्वार की फसलों को नियमित पानी नहीं मिले तो उसमें जहर फैल जाता है. यहां फसलें डेढ़-दो माह की हो चुकी है, पानी की कमी वह जहर में तब्दील हो गई. जहर के प्रभाव के कारण पाचन क्रिया बंद होना, सांस में तकलीफ होना, लडखड़़ाकर चलना, उठने में असमर्थ होना, आफरा आना एवं लार टपकना उल्टी करने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. इस दौरान समय पर इलाज नहीं होने के कारण मौत हो जाती है.