कोटा बना मादक पदार्थों की तस्करी का अड्डा, लग्जरी गाड़ियों से हो रही सप्लाई

आजकल तस्करों ने लग्जरी वाहनों का इस्तेमाल शुरू कर दिया है. कई बार टीम लग्जरी कार को नहीं रोकती. कार्रवाई को देखते हुए टीम को लग्जरी कार को भी चेक करने के निर्देश दिए गए हैं. 

कोटा बना मादक पदार्थों की तस्करी का अड्डा, लग्जरी गाड़ियों से हो रही सप्लाई
गाड़ी की तलाशी ली गई, तो उसमें गांजे के 78 पैकेट को मिले.

हिमांशू मित्तल, कोटा: ड्रग्स के तस्कर कार्रवाई से बचने के लिए शातिर हो गए हैं. अलग-अलग रास्ते और अलग-अलग तरीक़ों के साथ ड्रग्स के धंधे को चलाया जा रहा है. लग्जरी गाड़ियों में इसकी तस्करी की जा रही है.

यहां नारकोटिक्स विभाग की टीम ने कार्रवाई कर लग्जरी कार से गांजे की बड़ी खेप पकड़ी है. लग्ज़री कार की पिछली सीट के हेड रेस्टर के पीछे एक स्पेस बना कर गांजे की बड़ी खेप की तस्करी हो रही थी. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत करीब 25 लाख रुपये बताई जा रही है. 

उप नारकोटिक्स आयुक्त विकास जोशी ने बताया कि नारकोटिक्स विभाग द्वारा मादक पदार्थों की तस्करी रोकने के लिए नाकाबंदी की जा रही थी. नाकाबंदी के दौरान टीम मंडाना थाना क्षेत्र के टोल नाके पर वाहनों की जांच कर रही थी. इस दौरान एक लग्जरी कार को रोका गया, तो चालक और उसके साथ में बैठा व्यक्ति घबरा गया. ऐसे में टीम को शक हुआ और गाड़ी की तलाशी ली गई, तो उसमें गांजे के 78 पैकेट को मिले, जिनका वजन 167.600 किलो निकला. टीम ने दोनों युवकों को गिरफ्तार कर कार को जब्त कर लिया. 

लग्जरी कार को भी चेक करने के निर्देश 
अधिकारी भी हैरान हैं कि आजकल तस्करों ने लग्जरी वाहनों का इस्तेमाल शुरू कर दिया है. कई बार टीम लग्जरी कार को नहीं रोकती. कार्रवाई को देखते हुए टीम को लग्जरी कार को भी चेक करने के निर्देश दिए गए हैं. कार के नंबरों की जांच की गई तो वह भी किसी और वाहन के मिले. साथ ही दो नंबर प्लेट भी कार में रखी हुई मिली. 

नेट्वर्क को खंगालने में जुटी टीम
आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि इस गांजे को वह आंध्रप्रदेश के जिला राजमुंदरी से दिल्ली ले जा रहे थे. आंधप्रदेश से दिल्ली ले जाने के लिए 15 हजार रुपये में सौदा तय हुआ था. जोशी ने बताया कि आज से पहले जब भी कार्रवाई में मध्यप्रदेश के नीमच से ही गांजे की तस्करी होना पाया गया है, लेकिन यह पहली बार हुआ कि आंध्रप्रदेश से भी गांजे की इतनी बड़ी मात्रा में तस्कर की जा रही है. ऐसे में सरकार को वहां पर भी इसकी रोकथाम के लिए दल गठित करने के लिए आग्रह किया जाएगा. नारकोटिक्स टीम अब इन तस्करों से पूछताछ कर इनके नेट्वर्क को खंगालने में जुटी है.