राजस्थान: Lockdown में मेले जैसा माहौल, 25 हजार से ज्यादा लोग बॉर्डर पहुंचे

गुजरात में भी अब लॉकडाउन होने से वहां रहने वाले डूंगरपुर राजस्थान सहित अन्य राज्यों के हजारों लोग गुजरात से निकलकर डूंगरपुर-गुजरात की रतनपुर बॉर्डर पर पहुंच रहे हैं.

राजस्थान: Lockdown में मेले जैसा माहौल, 25 हजार से ज्यादा लोग बॉर्डर पहुंचे
इस संक्रमण काल में एक साथ लोगों के पहुंचने पर प्रशासन के होश उड़ गए हैं.

डूंगरपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से बचने के लिए 5 दिन से लॉकडाउन (Lockdown) कर रखा है. लेकिन प्रधानमंत्री द्वारा देशभर में 21 दिनों के लिए किए गए लॉकडाउन ने डूंगरपुर जिला प्रशासन की चिंता बढ़ा दी है.

दरअसल, गुजरात में भी अब लॉकडाउन होने से वहां रहने वाले डूंगरपुर, राजस्थान सहित अन्य राज्यों के हजारों लोग गुजरात से निकलकर डूंगरपुर-गुजरात की रतनपुर बॉर्डर पर पहुंच रहे हैं. जिसके चलते बॉर्डर पर मेले सा माहौल है. रात से लेकर सुबह तक 10 हजार लोग रतनपुर बॉर्डर पर पहुंचे है.

इधर, इस संक्रमण काल में एक साथ लोगों के पहुंचने पर प्रशासन के होश उड़ गए हैं. वहीं, प्रशासन द्वारा लोगों की स्क्रीनिंग की व्यवस्था नाकाफी रह गई. मेडिकल स्टाफ की कमी के चलते बॉर्डर पर मेले जैसा माहौल है. एक अनुमान के मुताबिक, पिछले 4 दिनों में बॉर्डर पर 25 हजार से ज्यादा लोग आए हैं.

वहीं, बीती रात 10 हजार से ज्यादा लोग बॉर्डर पार कर राजस्थान आए. इधर, बढ़ते यातायात को देखते हुए बीती रात कलेक्टर और एसपी भी बॉर्डर पर पहुंचे. वहीं, दिन में ड्यूटी कर चुके डॉक्टर्स ओर मेडिकल स्टाफ को भी रातोंरात बॉर्डर पर बुलवाया गया. एक डॉक्टर ने नाम नही उजागर करने की शर्त पर कहा कि बॉर्डर पर जो हालात है उसमे संक्रमण हुआ त हालात भयावह हो सकते हैं.

वहीं, दिन-रात ड्यूटी कर रहे मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा के लिए भी प्रशासन ने कोई इंतजाम नहीं किए है. डॉक्टर्स ने बताया कि रतनपुर बॉर्डर पर पूरे राजस्थान व अन्य राज्यों के लोग आ रहे हैं. ऐसे में जिला प्रशासन द्वारा सरकार से बात कर स्टेट लेवल की मेडिकल टीम बॉर्डेर पर लगानी थी. लेकिन प्रशासन ने पूरे राज्य की जिम्मेदारी स्थानीय मेडिकल टीम पर थोप दी. ऐसे में एक मौके पर प्रशासन की ओर से किए गए इंतजाम नाकाफी हैं. वहीं, डॉक्टरों व अन्य स्वास्थ्य टीमों की खुद की सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है.